भूखे-प्यासे, रोते-बिलखते अब भी पंजाब से अम्बाला बॉर्डर पहुंच रहे प्रवासी मजदूर, पुलिस भेज रही वापिस

  • पंजाब पुलिस मजदूरों को वापिस पंजाब भेजे जाने पर कर रही आनाकानी
  • भूखे श्रमिक अब भी जिद्द पर अड़े हमें जाने दो-पैदल चले जाएंगे जैसे-तैसे अपने घर पहुंचना है

अम्बाला. कोरोना महामारी प्रवासी मजदूरों पर कहर बनकर टूटी है। रोते-बिलखते, भूखे-प्यासे सिर पर बैग उठाए सैकड़ों मजदूर अब भी हरियाणा-पंजाब के बॉर्डर पर पहुंच रहे हैं। हरियाणा पुलिस उन्हें बसों में भर-भरकर वापिस उनके ठिकानों पर छोड़ रही है तो पंजाब पुलिस न तो उन्हें हरियाणा आने से रोक रही और वापिस आने वालों को लेने में भी आना-कानी कर रही है। ऐसे में सिर्फ जो पीस रहा है, वो प्रवासी मजदूरी है। फुटबॉल की तरह जिसका मन हो रहा है उन्हें उसी तरफ धकेल रहा है।

हरियाणा-पंजाब बॉर्डर पर बिलखते हुए एक प्रवासी महिला। यहां सैकड़ों की संख्या में प्रवासी पंजाब से आए बैठे थे, जिन्हें वापिस पंजाब भेज दिया गया।

पंजाब बॉर्डर पर लुधियाना से पैदल आई महिला का कहना था कि वे जैसे-तैसे भूखे-प्यासे यहां तक पहुंचे हैं। मकान मालिक किराया मांगता है, खाने को राशन नहीं है। ऐसे में अपने घर नहीं जाएंगे तो क्या करेंगे। अब जैसे-तैसे बॉर्डर पहुंच गए हैं तो पुलिस जाने नहीं दे रही। वापिस बसों में भरकर पंजाब छोड़ रही है। हम दिन-रात चलकर यहां पहुंचे थे। जैसे-तैसे अपने घर जाना है लेकिन ये जाने नहीं दे रहे। नहीं जाएंगे तो खाएंगे क्या?

हाथों में और सिर पर बैग उठाकर ये प्रवासी मजदूर पंजाब के अलग-अलग जिलों से हरियाणा के अम्बाला बॉर्डर पर पहुंचे थे लेकिन वापिस इनके ठिकानों पर छोड़ दिया गया।

यूपी के इटावा जा रही युवती का कहना था कि 5 दिन से हम पैदल चल रहे हैं। जब बॉर्डर पर पहुंचे तो मेडिकल जांच की बात कहकर हमें बसों में बैठाया गया और वापिस छोड़ा जा रहा है। हम भूखे हैं, बस पैदल चले जा रहे हैं। फिर भी हमारे साथ ऐसा कर रहे हैं। पैसा है नहीं, मकान मालिक ने कमरा खाली करवा दिया। ये कह रहे हैं कि पैसे दो नहीं तो खाली कर दो। अब बॉर्डर से वापिस पंजाब भेज रहे हैं। हम क्या खाएंगे।

कई मजदूर पिछले एक-एक सप्ताह से पैदल चले हुए थे। उनके पैर सूज गए हैं। भूखे-प्यासे चले जा रहे हैं।

बॉर्डर पर तैनात अम्बाला पुलिस के इंस्पेक्टर अजीत सिंह का कहना है कि पैदल लोग सड़क पर चल रहे हैं। उन्हें बसों से वापिस वहीं छोड़ा जा रहा है, जहां से वे आए हैं। इसके लिए रोडवेज व पुलिस प्रशासन की बसों से वापिस भेजा जा रहा है। इन्हें सरकार अपने आप बसों व ट्रेन के माध्यम से इनके घरों तक पहुंचाएगी।