प्रवासी श्रमिकों के मुंह पर कीटनाशक की फॉगिंग

  • कई मजदूरों को सांस लेने में हुई दिक्कत।
  • हेल्थ एक्सपर्ट ने कहा यह धुआं अस्थमा और सांस की बीमारी वालों के लिए बेहद घातक हो सकता है।

पानीपत. लॉकडाउन में घर लौटने वाले प्रवासी मजदूरों पर रोज नई मुसीबत आ रही है। सेक्टर-25 स्थित एक गार्डन में सैकड़ों प्रवासियों को एक दिन पहले ही जमा किया गया था। इस दौरान मच्छर मारने के लिए प्रशासन ने पाइरेथ्रम (कीटनाशक दवा) की फॉगिंग कराई। लेकिन फॉगिंग करने वालों ने मजदूरों को वहां से हटाए बिना ही उनके मंुह पर एकदम मशीन चला दी। मलेरिया विभाग के एक कर्मचारी ने बताया कि किसी पर इस दवा से फॉगिंग करना बेहद घातक है। इससे सांस के राेगियों को सांस लेने में दिक्कत हो सकती है। स्वस्थ व्यक्ति का दम भी फॉिगंग से घुटने लगता है।