पहले बीएलओ से करवा लिया सर्वे, बाद में अफसरों ने बदल दी राशन वितरण लिस्ट तो भड़के बीएलओ ने किया हंगामा

  • अधिकारियों पर लगाया मनमर्जी का आरोप, कहा-इस लिस्ट के मुताबिक वितरण होगा तो लोग हमें चोर बताएंगे

सिरसा. लॉकडाउन में जरूरतमंदों और हरे राशन कार्ड धारकों को मुफ्त राशन और आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाने के लिए जिला प्रशासन ने नगर परिषद के माध्यम से बीएलओ को भेजकर सर्वे तो करवा लिया लेकिन बााद में मनमर्जी करते हुए लिस्ट बदल डाली। बदली हुई लिस्ट के साथ जब राशन वितरण के लिए बीएलओ की ड्यूटी लगाई तो वे भड़क गए और नगर परिषद कार्यालय पहुंचकर खूब हंगामा किया।
रविवार को शहर के सभी 31 वार्डों के सभी बीएलओ को नगर परिषद कार्यालय बुलाया गया। इस पर शहर के 120 से ज्यादा बीएलओ पहुंच गए तो नगर परिषद अधिकारियों ने उन्हें लिस्ट सौंपकर कहा कि वे अब इस लिस्ट अनुसार राशन वितरण का काम पूरा करें। लेकिन लिस्ट में नाम देखकर सभी बीएलओ भड़क गए और हंगामा शुरू कर दिया। सभी बीएलओ ने नगर परिषद अधिकारियों ने मनमर्जी के आरोप लगाते हुए खूब हंगामा किया और नप अधिकारियों का घेराव भी कर लिया। करीब 3 घंटे चले हंगामे के दौरान नगर परिषद के अधिकारी जतिन गोयल ने उनकी बात सुनने से भी इनकार कर दिया। उन्होंने बीएलओ से कहा कि काम तो इसी प्रकार ही करना पड़ेगा।
जानिए… इसलिए बढ़ा विवाद और हुआ हंगामा
शहर के सभी 31 वार्डों में पोलिंग बूथ अनुसार बनाए गए बीएलओ से जिला प्रशासन ने डोर-टू-डोर सर्वे करवाया ताकि हरे राशन कार्डधारकों को भी राशन और अनाज उपलब्ध करवाया जा सके। करीब डेढ़ माह के दौरान उन्होंने डोर-टू-डोर जाकर सर्वे भी कर दिया और नप को पात्र परिवारों की सूची भी सौंप दी। लेकिन बीएलओ ने आरोप लगाया कि अधिकारियों ने मनमर्जी करते हुए लिस्ट बदल डाली और जिस लिस्ट में 500 परिवारों को पात्र दिखाया गया था, उसमें से केवल 5 से 10 परिवारों को ही शामिल किया गया। इतना ही नहीं अब जो लिस्ट उन्हें राशन वितरण के लिए सौंपी गई, उसमें न केवल उनके संबंधित बूथ के परिवार थे, बल्कि शहर की अन्य कॉलोनियों, वार्डों के परिवार भी शामिल थे।
बिना राशन कार्ड धारकों को भी मिलेगा राशन, 2 हजार परिवारों का आया राशन
लॉक डाउन के दौरान शहरवासियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जिनके पास बीपीएल कार्ड और अन्य कार्ड हैं, उन्हें तो डिपुओं से राशन मिल गया लेकिन जिनके पास वैध कार्ड नहीं था उन्हें राशन नहीं मिल पाया। सरकार के आदेश पर जिला प्रशासन ने नगर परिषद के माध्यम से सर्वे करवाया। इसमें डोर-टू जाकर बीएलओ ने पूछा था कि राशन चाहिए । इसलिए उस परिवार के सदस्यों का आधार नंबर, नाम, पिता का नाम, बूथ नंबर, मोबाइल नंबर दर्ज किए गए। अब पहले चरण में दो हजार परिवारों को राशन वितरण की तैयारियां शुरू कर दी हैं।
पहले चरण में 2 हजार परिवाराें को मिलेगा राशन : नगर परिषद सचिव
शहर में बीएलओ के माध्यम से सर्वे हो चुका है और अब राशन वितरण की तैयारियां की जा रही हैं। हालांकि बीएलओ ने बूथ वाइज सर्वे किया था लेकिन अब राशन वितरण वार्ड अनुसर तैयार लिस्ट पर करना है। ज्यादा बड़ी समस्या नहीं है, जल्द ही समाधान करवा लिया जाएगा। अच्छी बात ये है कि जल्द ही अब जरूरतमंदों को राशन मिल जाएगा।'' गुरशरण सिंह, सचिव, नगर परिषद, सिरसा।