जनता मार्केट में दुकानों के आगे रखे सामान को उठाने पर दुकानदारों ने नगर परिषद के खिलाफ जताया रोष

  • मौके पर पहुंची पुलिस, नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी ने जुर्माना न लगाने का दिया आश्वासन

कैथल. शुक्रवार की शाम को नगर परिषद की टीम जनता मार्केट की दुकानों के सामने रखे सामान को उठा लाई थी। नगर परिषद की टीम का तर्क था कि लॉकडाउन के दौरान कोई भी दुकानदार अपनी दुकान से बाहर सामान नहीं रख सकता। इस बात की जानकारी दुकानदार को लगी तो वह शाम को ही मार्केट में एकत्रित हो गए थे । शनिवार को मार्केट के दुकानदार एकत्र हो गए और नगर परिषद के खिलाफ विरोध जताया। दुकानदारों के विरोध को देखते हुए मार्केट में सिटी थाना इंस्पेक्टर नन्ही देवी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंची।

इसके बाद नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी अशोक कुमार, एमई राजकुमार शर्मा कर्मचारियों के साथ मौके पर पहुंचे। यहां व्यापार मंडल के सदस्य राजीव गुप्ता, प्रधान सिकंदर गुप्ता, व्यापार मंडल प्रधान लोहा एसोसिएशन सुमेर चंद बंसल ने बताया कि शाम के समय नगर की टीम उनका सामान उठाकर ले गई थी। मार्केट में सभी दुकानें बंद थी। किसी भी दुकानदार नियमों का उल्लंघन नहीं किया इसलिए सभी दुकानदारों का सामान वापस किया जाए। नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी अशोक कुमार ने आश्वासन दिया कि किसी भी दुकानदार का सामान जब्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि न ही किसी दुकानदार पर जुर्माना लगाया जाएगा।
दुकानदारों ने नप के जेई के साथ की धक्का-मुक्की
नप के जूनियर इंजीनियर संजीव कुमार ने बताया कि सुबह वह जनता मार्केट में ऑड इवन नियम के पालना करवाने के लिए पहुंचे थे। लेकिन यहां दुकानदारों ने उस पर दुकानों के सामने से सामान उठाने का आरोप लगाते हुए धक्का-मुक्की की। संजीव ने बताया कि कुछ दुकानदारों ने उसकी बाइक की चाबी निकाल ली और हेलमेट छीन लिया। इसके साथ ही कई दुकानदारों ने उसको अपशब्द कहे।

उन्होंने कहा कि जब सरकारी कर्मचारी के साथ इस तरह व्यवहार किया जाएगा तो वह कैसे काम कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन में दुकानदार अधिक सहयोग नहीं कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि इस बारे में नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी को सूचना दे दी ताकि ऐसे दुकानदारों खिलाफ कार्रवाई की जा सके।