दसवीं के 2 बाकी पेपरों की थी टेंशन, छात्र ने फंदा लगा दी जान

  • नौवीं में फेल होने पर 14 साल की बच्ची ने फंदा किया सुसाइड

कुरुक्षेत्र. बुढा गांव कॉलोनी में शनिवार को एक किशोर ने फंदा लगा कर सुसाइड कर लिया। लाडवा थाना पुलिस मौके पर पहुंची। हालांकि किशोर ने यह कदम क्यों उठाया, इसे लेकर अभी तक कारणा स्पष्ट नहीं हुआ। मौके से कोई सुसाइड नोट भी नहीं मिला। माना जा रहा है कि उसने मानसिक तनाव में यह कदम उठाया। परिजनों का कहना है कि वह अपने दो बकाया पेपरों को लेकर काफी दिनों से परेशान था। पुलिस ने पिता के बयानों पर केस दर्ज कर जांच शुरु की है। किशोर दसवीं कक्षा का छात्र था ।
दिन में पिता की जगह गया था काम पर | बुढा कॉलोनी वासी तिलक राज ने बताया कि वह गांव में सफाई कर्मचारी है। अजय अक्सर काम में उसका हाथ बंटाता था। शुक्रवार को वह करीब 9 बजे लौटा। खाना खाकर अपने कमरे में सोने चला गया। सुबह जब मां उठाने के लिए अंदर गई तो अजय पंखे के साथ रस्सी के सहारे लटका हुआ है।

शहर के दराखेड़ा में शनिवार देर रात एक 14 वर्षीय बच्ची ने पंखे के साथ फांसी लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। घटना का पता चलते ही कृष्णा गेट चौकी पुलिस मौके पर पहुंची और छानबीन शुरू की। मृतका की शिनाख्त डिम्पल उर्फ नोनी के रूप में हुई। नोनी अपनी मां कृष्णा के साथ किराए के मकान में रहती थी। परिवार मूलरूप से उत्तरप्रदेश का रहने वाला है। बताया जाता है कि नोनी नौवीं क्लास में फेल हो गई थी। नोनी कृष्णा की एकमात्र सन्तान थी।
मां बाहर टहल रही थी, अंदर लगाया फंदा | दराखेड़ा कृष्णा करीब दस साल से किराए के मकान में चौबारे पर रह रही है। शनिवार देर शाम को कृष्णा मकान की छत पर घूम रही थी। इसी बीच नोनी ने चुन्नी के सहारे पंखे से लटककर फांसी लगा ली। जांच अधिकारी एसआई राजेन्द्र सिंह के मुताबिक अभी यही पता चला कि वह इस साल नौवीं क्लास में फेल हो गई थी।