दड़ौली के युवक की छठी-सातवीं रिपोर्ट पॉजिटिव आने से बढ़ी चिंता

  • स्वास्थ्य विभाग अब दड़ौती सहित चार गांवों के लिए बना रहा प्लान

हिसार. गांव दड़ौली निवासी कोरोना संक्रमित युवक की चौथी व पांचवीं रिर्पोट निगेटिव आने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने राहत की सांस ली ही थी कि युवक की छठी व सातवीं रिपोर्ट फिर से पॉजिटिव आ गई जिसके कारण स्वास्थ्य विभाग की मुश्किलें और अधिक बढ़ गई हैं। युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव आने से स्वास्थ्य विभाग अब नई चुनौतियों की तैयारी के साथ अब आगे बढ़नेे की योजना बना रहा है। विभाग अब दड़ौली सहित चारों गांवों में नए सिरे से रणनिति बनाकर कोरोना को मात देने की ओर आगे बढऩे की तैयारी कर रहा है।
मूल रूप से गांव दड़ौली निवासी युवक उत्तरप्रदेश के गाजियाबाद में एक ट्रांसपोर्ट कंपनी में नौकरी करता है। युवक गुरुवार 23 अप्रैल को गाजियाबाद से गांव दड़ौली पहुंचा था। युवक के गांव में आने की सूचना शनिवार 25 अप्रैल को सुबह प्रशासन को किसी ग्रामीण ने दी थी। जिस पर स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव में पहुंची थी और संदीप और उसके पिता हवासिंह को अपने साथ जांच के लिए हिसार ले गई और सैंपल लेने के बाद उन्हें वापिस गांव दड़ौली में छोड़ दिया। शाम को आई रिपोर्ट में युवक को कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई। पहली रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उसे उपचार के लिए अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में दाखिल करवाया गया था। जिसके बाद युवक की 30 अप्रैल को दूसरी व 6 मई को तीसरी रिपोर्ट भी पॉजिटिव पाई गई थी। तीन रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद युवक की 10 मई को आई चौथी एवं गुरुवार 14 मई को आई रिपोर्ट निगेटिव आई थी। शुक्रवार को विभाग युवक को घर भेजने की तैयारी कर ही रहा था कि रिपोर्ट फिर से पॉजिटिव आई गई।
अब ट्रिपल टेस्ट के लिए भी लिया सैंपल
कोरोना पोजिटीव मरीज दड़ौली निवासी के एचआईवी और ट्रिपल टेस्ट के लिए सैंपल लिया गया और जांच के लिए लैब में भेजा गया है। इसके अलावा युवक के सभी टेस्ट कराए जा रहे हैं। प्रदेश का पहला मरीज है, जिसकी पांच रिर्पोट पोजिटिव आई हंै। युवक को कोई भी कोरोना का सिमटम तक नहीं हंै। पोजिटिव रिर्पोट ने चिकित्सकों की चिंता बढ़ा दी है।
हांसी के बडाला का सिक्योरिटी गार्ड पॉजिटिव मिला, नोएडा में वकील के आवास पर था तैनात

357 ग्रामीणों के ले चुके हैं सैंपल
सीएचसी सीसवाल के एसएमओ डॉ. रोशनलाल ने बताया कि गांव दड़ौली के युवक के पॉजिटिव आने के बाद से लेकर अब तक चारों गांवों के 1970 घरों से करीबन 9 हजार लोगों की थर्मल स्क्रिनिंग हो चूकी हैं। इसके अलावा 357 लोगों के सैम्पल लिए जा चुके हैं जिनकी जांच भी हो चूकी हैं जो सभी की रिपोर्ट नेगेटिव आ चूकी हैं। गांवों को सेनेटाइज भी करवाया जा चुका है।