लॉकडाउन 4 का प्रपोजल तैयार, दिल्‍ली में थम नहीं रहा कोरोना का कहर

  • दिल्‍ली में कोरोना के 8 हजार से ज्‍यादा मरीज, अबतक 115 लोगों की मौत
  • करीब 500 हेल्‍थ वर्कर्स टेस्‍ट हो चुके हैं पॉजिटिव, नए केसेज ने गुरुवार को बनाया रेकॉर्ड
  • मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लोगों से मांगे थे सुझाव, लॉकडाउन 4 में मिल सकती है ढील
  • दिल्ली के सभी जिले रेड जोन में, 80 कंटेनमेंट जोन में से आधों में अब बदले हालात

नई दिल्‍ली
     देश की राजधानी में कोरोना वायरस मामलों की संख्‍या 8 हजार को पार कर गई है। गुरुवार को यहां से रेकॉर्ड 472 नए केसेज आए। यह एक दिन में नए मामलों का सबसे बड़ा आंकड़ा है। मई महीने में चार बार नए केसेज का डेली रेकॉर्ड टूटा है। अब दिल्‍ली में 8,470 मरीज हो चुके हैं। यहां कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 115 हो चुका है। संक्रमण रोकने को जारी लॉकडाउन का तीसरा चरण 17 मई को खत्‍म हो रहा है। मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने संकेत दिए हैं कि केंद्र सरकार अगर लॉकडाउन 4 में छूट देगी तो वह छूट दिल्‍ली में भी मिलेगी।

केजरीवाल सरकार ने केंद्र को भेजा प्रपोजल
     दिल्‍ली सरकार ने लॉकडाउन 4 से जुड़े प्रस्‍ताव केंद्र सरकार को भेज दिए हैं। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री सत्‍येंद्र जैन ने बताया कि लोगों ने पब्लिक स्‍पेस में मास्‍क पहनने का सुझाव दिया है। वे चाहते हैं कि लिमिटेड कैपासिटी में बसें और मेट्रो शुरू कर दी जाए। मॉल्‍स को भी 25 पर्सेंट या 50 पर्सेंट कैपासिटी पर खोलने का प्रस्‍ताव है। ऑड-ईवन के आधार पर दुकानें खोलने का भी सुझाव भेजा गया है।

दिल्‍ली में अब 78 कंटेनमेंट जोन
दिल्ली में अब तक कोरोना से कम से कम 3,045 मरीज ठीक हो चुके हैं, जबकि 5,310 मामले सक्रिय हैं।” दिल्ली हेल्थ बुलेटिन के मुताबिक, मरने वाले 115 लोगों में से 100 मरीज अन्य गंभीर बीमारियों से पीड़ित थे। साथ ही, कुल मौतों में से केवल 22 लोगों की उम्र 50 साल से कम थी। राष्ट्रीय राजधानी में अब तक 1,19,736 टेस्‍ट किए गए हैं। स्वास्थ्य क्षेत्र की रिपोर्ट में कहा गया है कि राष्ट्रीय राजधानी में कंटेनमेंट जोन घटकर 78 रह गए हैं।