पद्मश्री अवाॅर्डी, सरपंचों के जवाब के बाद हो सकती है जांच, उसकी रिपोर्ट तय करेगी आगे क्या होगी कार्रवाई

  • हड़ताड़ी-मांडी में डिवेलपमेंट वर्क में बीडीपीओ की रिपोर्ट के बाद पद्मश्री अवार्डी व तत्कालीन ग्राम सचिव नरेंद्र सिंह को चार्जशीट किया जा चुका है

पानीपत. इसराना ब्लॉक के हड़ताड़ी और मांडी गांव में डिवेलपमेंट वर्क में तत्कालीन ग्राम सचिव व पद्मश्री अवार्डी नरेंद्र सिंह और दोनों गांव के सरपंचाें के जवाब के बाद तय होगा कि मामले की नियमित जांच होगी या नहीं। डीसी हेमा शर्मा ने कहा कि सभी के जवाब आ जाएं, अगर जवाब के बाद जांच की नाैबत आएगी तो इस मामले की नियमित जांच कराई जाएगी। इसकी रिपोर्ट के बाद तय होगा कि कितनी बड़ी सजा दी जाए।
बीडीपीओ की रिपोर्ट के बाद पद्मश्री अवार्डी व तत्कालीन ग्राम सचिव नरेंद्र सिंह को चार्जशीट कर दिया गया। ग्राम सचिव के साथ ही हड़ताड़ी के सरपंच गुरमीत सिंह व मांडी की सरपंच ज्योति से 15 दिनों में जवाब मांगा गया है। हड़ताड़ी में 1.51 करोड़ और मांडी में 24.28 लाख के डिवेलपमेंट वर्क पूरा होने से पहले ही पंचायत के खाते से पैसे निकाल लिए गए। इसराना ब्लाॅक के बीडीपीओ जितेंद्र शर्मा ने जई और अन्य अफसरों के साथ जांच कर मामले की रिपोर्ट डीसी को सौंपी। जांच रिपोर्ट में बीडीपीओ ने लिखा कि हड़ताड़ी के सरपंच गुरमीत सिंह और तत्कालीन ग्राम सचिव व पद्मश्री अवार्डी नरेंद्र सिंह ने 1.51 करोड़ पैसे निकाल लिए, जबकि काम अधूरे पड़े हैं। साथ ही मेजरमेंट बुक पर एसडीओ के साइन भी नहीं कराए। इसी तरह से मांडी में ही अंबेडकर भवन का निर्माण अधूरा है, लेकिन 24.28 लाख पंचायत के खाते से निकल गए। अब देखना है कि नरेंद्र सिंह और सरपंचों के जवाब आने के बाद आगे की कार्रवाई किस दिशा में जाती है।