जेईई सहित विभिन्न प्रतियोगी परीक्षा की भी कर सकते तैयारी

  • अब घर बैठे डिजिटल लाइब्रेरी से फ्री पढ़े विद्यार्थी

सोनीपत. कोरोना वायरस के चलते स्कूल-कॉलेज पड़े हैं,लेकिन पढ़ने के इच्छुक विद्यार्थियों को निराश होने की आवश्यकता नहीं है। क्योंकि ऐसे विद्यार्थियों को ध्यान में रखकर शिक्षा विभाग ने डिजिटल लाइब्रेरी बनाई है, जहां स्टूडेंट्स घर बैठे पढ़ाई कर सकते हैं। इसके लिए स्टूडेंट्स को किसी तरह का शुल्क भी नहीं देना होगा। इस लाइब्रेरी को डिजिटल लाइब्रेरी ऑफ इंडिया का नाम दिया गया है। इसमें जेईई से लेकर अन्य प्रतियोगी परीक्षा की भी विद्यार्थी तैयारी कर सकते हैं।

ऑनलाइन लाइब्रेरी में 68 लाख से ज्यादा पुस्तकें है शामिल : ऑनलाइन लाइब्रेरी में 68 लाख से अधिक किताबें उपलब्ध हैं। इन किताबों को प्राइमरी से लेकर पोस्ट ग्रेजुएट तक के बच्चे बिना कोई शुल्क दिए घर बैठे पढ़ सकते हैं। किताबें को पढ़ने के लिए स्टूडेंट्स ndl.iitkgp.ac.in पर जाकर लॉगइन करें।

किताबें, टेक्स्ट मैटर, वीडियो और ऑडियो के रूप में उपलब्ध
डिजिटल लाइब्रेरी में स्टूडेंट्स किताबें न सिर्फ पढ़ सकते हैं, बल्कि डाउनलोड भी कर सकते हैं। यहां स्टूडेंट्स घर बैठे परीक्षाओं की तैयारी कर सकते हैं। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने सभी विश्वविद्यालय को सर्कुलर भेजकर इस वेबसाइट के बारे में जानकारी दी है। इस ई-लाइब्रेरी पर ये किताबें टेक्स्ट, वीडियो और ऑडियो के रूप में भी उपलब्ध हैं।
अभिभावक व टीचर भी सोशल मीडिया पर एक दूसरे को जोड़ सकते हैं
एनसीईआरटी ने नया एकेडमिक कैलेंडर जारी किया है। इसमें ऑनलाइन क्लासों में पढ़ने के तरीके, तकनीक को शामिल कर जारी किया है। गौर हो कि इससे पहले एनसीईआरटी पहले से 8वीं के लिए एकेडमी कैलेंडर घोषित कर चुका है। इस प्रक्रिया में पेरेंट्स, टीचर और स्टूडेंट्स को वॉट्सएप, फेसबुक, टि्वटर, टेलीग्राम, गूगल मेल और गूगल हैंगआउट के जरिए एक-दूसरे से जोड़ सकते हैं। कैलेंडर में दिव्यांग भी शामिल किए हैं। दिव्यांग स्टूडेंट्स को ऑडियो, बुक्स रेडियो प्रोग्राम आदि की मदद से संबोधित किया जा सकता है।

चार भाषाओं को भी कैलेंडर में जोड़ा

इस कैलेंडर में अनुभव आधारित एजुकेशन के लिए आर्टिकल एजुकेशन और युवक को भी शामिल किया गया है। इसमें बच्चों को तनावमुक्त और चिंता से दूर रखने के उपाय बताए जाएंगे। कैलेंडर में हिंदी, अंग्रेजी, उर्दू, और संस्कृत भाषाओं को भी जोड़ा गया है। इसमें ई-पाठशाला, एनआरओईआर, दीक्षा पोर्टल पर उपलब्ध मेटेरियल अपलोड किया गया है। गौर हो कि कैलेंडर में सभी विकल्प सुझाव के तौर पर दिए गए हैं।