कंटेनमेंट जोन तक सिमटी सख्ती बफर जोन में सभी गतिविधियां है सामान्य

  • कंगनपुर रोड स्थित शिवनगर कॉलोनी में कोरोना पॉजिटिव युवक मिलने के बाद कंटेनमेंट घोषित
  • 3 किलोमीटर का एरिया बफर जोन घोषित है

सिरसा. शहर के कंगनपुर रोड स्थित शिव नगर में कोरोना पॉजिटिव केस मिलने के बाद घोषित कंटेनमेंट जोन में लोग बंधन महसूस करके नई नई डिमांड कर रहे है। प्रशासन का सहयोग नहीं कर रहे हैं। इसलिए प्रतिदिन नई-नई समस्याएं सामने आ रही हैं। कंटेनमेंट जोन में परेशान कॉलोनीवासियों द्वारा नियम तोड़कर बाहर निकलने पर एसडीएम ने क्षेत्र का निरीक्षण किया उन्होंने ड्यूटीरत कर्मचारियों को चेतावनी देते ड्यूटी में लापरवाही न करने की बात कही। गुरुवार को कंट्रोल रूम के हेल्पलाइन नंबर पर 17 कॉल दर्ज की गई। किसी ने राशन तो किसी ने दवा और किसी ने इलाज के लिए बाहर जाने की अनुमति मांगी।

गुरुवार सुबह एसडीएम जयवीर यादव शिव नगर पहुंचे। उन्होंने कंटेनमेंट एरिया का निरीक्षण किया और ड्यूटीरत कर्मचारियों से कहा कि कंटेनमेंट एरिया में अभी भी लोग घरों से बाहर निकल रहे हैं। इसलिए इस स्थिति को कंट्रोल करो।

3 किलोमीटर का एरिया बफर जोन घोषित है

प्रोटोकॉल अनुसार जिस एरिया में कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलता है, उसके आसपास के एरिया को कंटेनमेंट जोन जबकि 3 किलोमीटर के एरिया को बफर जोन घोषित किया जाता है। कंटेनमेंट जोन में तो 24 घंटे पुलिस पहरा रहता है जबकि बफर जोन पर भी पुलिस की निगाह रहती है और सेनिटाइजेशन से लेकर डोर-टू-डोर सर्वे चलता है। लेकिन कंगनपुर रोड वाले मामल में कंटेनमेंट जोन केवल दो गलियों तक सिमट कर रह गया है। बफर जोन में सामान्य माहौल है, आवाजाही सामान्य है और दुकानें भी खुल रही हैं। इसके विपरीत बंसल कॉलोनी में मिले केस के बाद कोर्ट कॉलोनी को भी पूरी सख्ती से बफर जोन में शामिल किया था।

हेल्पलाइन पर कोई मुफ्त का राशन मांग रहा तो कोई कह रहा पंखा खराब हो गया है
कंटेनमेंट एरिया में शामिल लोगों की सहायता के लिए राजकीय कन्या विद्यालय में कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। यहां हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है। इस पर गुरुवार को कुल 17 कॉल रिकार्ड दर्ज की गई। किसी ने दवा तो किसी ने राशन की मांग की। लेकिन अधिकतर लोग मुफ्त का राशन मांग रहे हैं जबकि कुछ अपनी निर्धारित दुकानों पर जाकर राशन खरीदना चाहते हैं। इसके अलावा गुरुवार को 3 लोगों ने सिलेंडर की मांग की और एक व्यक्ति ने कहा कि उसका पंखा खराब हो गया है, उसे ठीक कराना है। इतना ही नहं एक व्यक्ति ने पशुओं के लिए खल की डिमांड की। दो व्यक्तियों ने हेल्पलाइन नंबर पर कॉल करके कहा कि उन्हें बाहर से दवाई लेकर आनी है। इस पर उनका रिकार्ड रजिस्टर में दर्ज कर बाहर जाने दिया गया।

बीआर अंबेडकर कॉलेज कैंपस कंटेनमेंट जोन मुक्त हुआ :
^नांदेड साहिब से आए यात्रियों द्वारा 14दिनों का क्वारंटाइन पीरियड पूरा करने के बाद गुरुवार को बीआर अंबेडकर महाविद्यालय गांव डबवाली को कंटेनमेंट जोन से मुक्त कर दिया है। डीसीरमेश चंद्र बिढ़ान के आदेशानुसार एक मई को गांव डबवाली के बीआर अंबेडकर राजकीय महाविद्यालय को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया था। '' डॉ. सुरेंद्र नैन, सिविल सर्जन, सिरसा।