एक दिन में 30 नए केस मिले, 20 ठीक हुए, अब कोरोनामुक्त हुआ यमुनानगर

  • ठीक होने वालों का आंकड़ा 440 पर पहुंचा
  • अब भी 479 मरीजों का चल रहा है इलाज
  • सोनीपत में 11 नए संक्रमित सामने आए, राज्य में 832 पॉजिटिव
  • 50 से ऊपर मरीजाें वाले 5 जिले

पानीपत. हरियाणा में भले ही हर दिन नए केस आ रहें हैं, लेकिन अब एक बार फिर ठीक होने वाले मरीजों का आंकड़ा गति पकड़ने लगा है। 24 घंटे में प्रदेश में 29 नए केस आए हैं। जबकि 20 ठीक होकर घर लौटे हैं। राज्य में अब जहां कुल संक्रमितों की संख्या 831 हो गई है, वहीं ठीक होने वालों का आंकड़ा 440 हो गया है। प्रदेश में 11 मौतों के बाद अब 479 एक्टिव मरीज हैं। चार मरीजों के ठीक होने के साथ यमुनानगर जिला कोरोना मुक्त हो गया है। जबकि कैथल, कुरुक्षेत्र, हिसार में एक-एक, अम्बाला, पलवल में दो-दो और चरखी दादरी, भिवानी, सिरसा और नूंह में सिर्फ तीन-तीन एक्टिव मरीज है। जबकि पंचकूला, रोहतक में चार से पांच एक्टिव मरीज हैं, जो पिछले कुछ ही दिनों में मिले हैं। ऐसे में ये जिले भी कोरोनामुक्त होने के करीब आ रहे हैं। राज्य में पिछले 24 घंटे में फरीदाबाद में 12, सोनीपत में 11, गुड़गांव में चार, झज्जर में दो और महेंद्रगढ़ में एक नया केस मिला है। सोनीपत जिले में अब तक मिलने वाले मरीजों की संख्या 131 हो गई है। इनमें से 54 ठीक भी हो चुके हैं। सोनीपत में ही 10, फरीदाबाद और यमुनानगर में 4-4, पानीपत में दो और पलवल में एक मरीज ठीक होकर घर लौटा है।
हिसार, कैथल, करनाल, पंचकूला, रेवाड़ी, रोहतक और सिरसा से भी बसें चलाई जाएंगी
हरियाणा रोडवेज की 30 बसें आज से सड़कों पर उतरेंगी। चंडीगढ़ और दिल्ली के बीच फिलहाल बसें नहीं चलाई जाएंगी। बसों में प्री बुकिंग कराने वाले यात्रियों को ई-टिकट के जरिए प्रवेश मिलेगा। यही नहीं टिकट भी कन्फर्म होनी जरूरी है। बस अड्‌डों पर एंट्री ठीक एयर पोर्ट की तर्ज पर होगी, हर यात्री से कन्फर्म टिकट देखकर ही बसों में सफर करने दिया जाएगा। एक बस में 30 यात्रियों को बैठने की अनुमति होगी। पहले दिन भिवानी, हिसार, कैथल, करनाल, नारनौल, पंचकूला, रेवाड़ी, रोहतक और सिरसा से ही बसें चलाई जाएंगी। बिना मास्क के बस में सफर की अनुमति नहीं होगी। कोरोना वायरस से प्रभावित जिलों से गुजरने वाली बसें बाईपास या फ्लाईओवर से ही जाएंगी। सभी बसें प्रदेश के अंदर ही चलेंगी और बिना सेनेटाइज किए किसी बस को नहीं चलाया जाएगा।
गुड़गांव की एसआरएल लैब की रिपोर्ट जांच में मिली गलत, स्वास्थ्य मंत्री बोले-कार्रवाई करेंगे
हरियाणा सरकार द्वारा कोरोना टेस्ट के लिए अधिकृत की गई प्राइवेट लैब एसआरएल की रिपोर्ट गलत थी। यह जांच में पाया गया है। इसकी पुष्टि हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने की है। उन्होंने कहा कि जांच कमेटी ने रिपोर्ट दी है कि एसआरएल लैब द्वारा जो टेस्ट किए जा रहे थे, उनकी रिपोर्ट गलत थी। बता दें कि इस लैब ने अम्बाला कि चार निगेटिव मरीजों को पॉजिटिव बताया था। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने इस लैब पर बैन लगाते हुए जांच बैठा दी थी। इस मामले पर विज ने कहा कि कोरोना मे किसी की रिपोर्ट गलत आना बहुत घातक सिद्ध हो सकता है। किसी को कोरोना नहीं और उसे कोरोना पॉजिटिव करार दे दो तो वह कुछ भी कर सकता है। इसलिए इस मामले को हम बहुत गंभीरता से ले रहे हैं। जो एमओयू एसआरएल के साथ हुआ था उसका अध्यन कर रहे हैं, उसमें जो कार्रवाई के प्रावधान हैं, उसके तहत हम कार्रवाई करेंगे। इस मामले मे आईसीएमआर को भी लिखेंगे कि वह इस लैब के खिलाफ कार्रवाई करेे।

ये था पूरा मामला

गुड़गांव की एसआरएल लैब में अम्बाला की स्टाफ नर्स का सैंपल भेजा गया था, जिसे पॉजिटिव बताया था। फिर नर्स का सैंपल करनाल और खानपुर भेजा गया तो वहां की रिपोर्ट निगेटिव आई। इसके बाद अम्बाला की तीन मरीजों की रिपोर्ट भेजी गई तो वह पॉजिटिव बताई गई लेकिन दूसरी लैब में वे भी निगेटिव निकले

जानिए… आज तक की स्थिति
24845 लोगों का सर्विलांस का समय पूरा।
14485 लोग अभी भी हैं सर्विलांस पर।
69191 लोगों के लिए गए हैं सैंपल।
63791 सैंपल आ चुके हैं निगेटिव।
831 हो चुकी है पॉजिटिव केसों की संख्या।
4582 की रिपोर्ट का अभी इंतजार है।

यह भी जानें…

1.26 प्रतिशत है पॉजिटिव रेट
53.66 प्रतिशत है रिकवरी रेट
1.34 प्रतिशत है फैटेलिटी रेट
11 दिन में अब डबल हो रहे मरीज