अब स्लम एरिया में कोरोना की तलाश के लिए होगी सैंपलिंग

  • अब तक ट्रैवल हिस्ट्री और फ्लू पेशेंट के किए जा रहे थे टेस्ट

यमुनानगर. कोरोना टेस्ट के दायरे में अब स्लम एरिया होगा। यह टेस्ट का तीसरा चरण होगा। अभी तक स्वास्थ्य विभाग ने ट्रैवल हिस्ट्री और फ्लू पेशेंट को इस दायरे में रखा था, लेकिन अब स्लम एरिया में टेस्ट शुरू किए गए हैं क्योंकि ये लोग सीधे स्वास्थ्य विभाग की नजर में नहीं आ पाते। बीमार होने पर ज्यादातर लोग पास के केमिस्ट से या फिर आसपास बैठे आरएमपी डॉक्टर से दवा ले लेते हैं। इसके साथ ही ये लोग बेहद कम जगह में ज्यादा संख्या में रहते हैं। वहीं गंदगी के बीच रहते हैं जोकि कोरोना महामारी फैलने बड़ा कारण बन सकता है इसलिए अब स्वास्थ्य विभाग ने इन एरिया को चिह्नित किया है। यमुनानगर और जगाधरी एरिया में दो दर्जन से ज्यादा स्लम एरिया हैं। यहां हजारों की संख्या में लोग रहते हैं। अधिकारियों का कहना है कि यहां पर टीमें रैंडम सैंपलिंग करेंगी ताकि यह पता चल सके कि यहां पर कोरोना संक्रमण तो नहीं पल रहा। बता दें यमुनानगर स्वास्थ्य विभाग की ओर से अब तक करीब 2300 सैंपल किए जा चुके हैं। इसमें 2211 सैंपल की रिपोर्ट आ चुकी है।
ट्रैवल हिस्ट्री और फ्लू पेशेंट दायरे में आए तो यहां पर मिलने सात पेशेंट| कोरोना महामारी की जब शुरुआत हुई तो सबसे पहले ट्रैवल हिस्ट्री वाले लोगों की जांच की गई क्योंकि ये लोग बाहर से आ रहे थे। इसमें चार लोग कोरोना पॉजिटिव मिले थे। वहीं फ्लू पेशेंट को दायरे में लाया गया तो इसमें तीन पेशेंट पकड़ में आए।
 एक कोरोना पेशेंट ऐसा था जोकि पहले से किडनी की बीमारी से पीड़ित था। डायलिसिस होने से उसका कोरोना टेस्ट कराया गया था। इसमें वह पॉजिटिव आया था। सीएमओ डॉक्टर विजय दहिया ने बताया कि अब हमारा सैंपलिंग में टारगेट स्लम एरिया हैं। यहां पर रैंडम सैंपलिंग चलेगी ताकि यह पता चल सके कि यहां पर कोई कोरोना संक्रमित तो नहीं।

अभी यमुनानगर प्रदेश का एकमात्र कोरोना फ्री जिला : सिविल सर्जन

सीएमओ डॉक्टर विजय दहिया ने बताया कि वीरवार शाम को जो आंकड़े कोरोना को लेकर प्रदेश में जारी हुए, उसमें यमुनानगर ही ऐसा जिला है जहां कोई कोरोना पेशेंट नहीं है। हमारे यहां पर जो 8 पेशेंट आए थे, वे ठीक हो चुके हैं। 11 दिन हो गए हैं। जनता से ये ही अपील है कि अगर हमें कोरोना से बचकर रहना है तो नियमों का पालन करें। बहुत जरूरी होने पर ही घर से निकलें। सोशल डिस्टेसिंग का पालन करें। मास्क जरूरी लगाकर रखें।