रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद ही डिस्चार्ज किया जाएगा मरीज

  • हरियाणा का केंद्र की गाइडलाइन मानने से इनकार

पानीपत. केंद्र सरकार ने कोरोना पॉजिटिव मरीज के दो दिन बुखार न होने और सांस की दिक्कत ठीक होने पर मरीज को डिस्चार्ज करने की गाइडलाइन जारी की है, लेकिन हरियाणा ऐसा नहीं करेगा। राज्य में जब तक मरीज की कम से कम एक रिपोर्ट निगेटिव नहीं आएगी, उसे डिस्चार्ज नहीं किया जाएगा। बुखार खत्म होने पर किसी को अस्पताल से छुट्‌टी नहीं दी जाएगी। इसे लेकर स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने विभागीय अधिकारियों को आदेश जारी कर दिए हैं, क्योंकि पिछले 14 दिनों में करीब 380 से ज्यादा मरीज हरियाणा में मिले हैं। इनमें ज्यादातर केस ऐसे थे, जिनमें कोरोना के लक्षण नहीं थे। ऐसे में प्रदेश सरकार अभी कोरोना मरीजों को डिस्चार्ज करने में कोताही नहीं बरतना चाहती है।

मानेसर में बनी टेस्टिंग किट के परिणाम भी संतोषजनक नहीं

चाइना में बनी रैपिड टेस्ट किट के बाद अब मानेसर में साउथ कोरिया कंपनी की बनी ऐसी किटें भी सवालों के घेरे में आ गई हैं। प्रदेश सरकार ने इस कंपनी से 25 हजार किट खरीदी थी। स्वास्थ्य विभाग ने इन किटों के परीक्षण के लिए पहले कोरोना पॉजिटिव मरीजों की जांच की तो रिपोर्ट संतोषजनक नहीं आई। किट मरीजों को पॉजिटिव नहीं बता रही है। ऐसे में अब रैपिड टेस्ट किट से होने वाली जांच को रोका जा सकता है।

पूर्व में केंद्र की गाइडलाइन के अनुसार मरीज की तीन बार निगेटिव रिपोर्ट आने के बाद ही अस्पताल से छुट्‌टी करने का प्रावधान था।