प्रदेश में कल से गेहूं खरीद के 550 केंद्र बंद, खरीद में सिरसा पहले, करनाल दूसरे नंबर पर

  • अब तक मंडियों में आया 64.25 लाख टन से अधिक गेहूं
  • मंडियों से करीब 40 लाख टन गेहूं का उठान, 24 लाख टन के करीब गेहूं मंडियों में पड़ा

पानीपत. (सुशील भार्गव) प्रदेश में गेहूं खरीद शुरू हुए 24 दिन हो चुके हैं। अब तक मंडियों में 64.25 लाख टन से अधिक गेहूं खरीदा जा चुका है। इस अवधि में मजदूरों की कमी के बावजूद सरकार ने तेजी से खरीद कराई है। सरकार ने 1831 केंद्रों पर गेहूं की खरीद शुरू की थी। अब ऐसे खरीद केंद्रों को बंद करने की तैयारी है, जहां आवक ही नहीं हो रही। इनमें 550 केंद्र ऐसे हैं, जहां गेहूं नहीं आ रहा। 14 मई से इन केंद्रों को बंद कर दिया जाएगा।
फिलहाल 1281 खरीद केंद्रों पर गेहूं खरीद का कार्य जारी रहेगा। अब तक मंडियों से करीब 40 लाख टन गेहूं का उठान हो चुका है, जबकि 24 लाख टन के करीब गेहूं मंडियों में है। प्रदेश में सिरसा जिले में सबसे अधिक गेहूं की आवक हुई है, दूसरे नंबर पर करनाल जिला है। कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव संजीव कौशल ने बताया कि 12 मई को प्रदेश में 1.79 लाख टन गेहूं की आवक हुई है। अब तक मंडियों में 64.25 लाख टन से अधिक गेहूं खरीदा जा चुका है। 12 मई को 23381 किसानों से गेहूं खरीदा गया। अब तक 4.13 लाख से अधिक किसान अपना गेहूं मंडियों में बेच चुके हैं। 2.20 लाख किसानों से 5.93 लाख टन सरसों और 1478 किसानों से 2910 मीट्रिक टन चना खरीदा गया है।

टॉप पांच जिले जहां सर्वाधिक गेहूं खरीद

सिरसा 7.11 लाख टन
करनाल 6.72 लाख टन
कैथल 6.41 लाख टन
जींद 6.37 लाख टन
फतेहाबाद 5.44 लाख टन

पिछले 10 साल में गेहूं की आवक
वर्ष खरीद (लाख टन में)
{2010-11 63.62
{2011-12 69.49
{2012-13 87.30
{2013-14 58.42
{2014-15 65.11
{2015-16 67.71
{2016-17 67.57
{2017-18 74.33
{2018-19 87.58
{2019-20 93.63
85 फीसदी से अधिक गेहूं की आवक
खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने अबकी बार प्रदेश की अनाज मंडियों व खरीद केंद्रों में करीब 95 लाख टन गेहूं खरीद के इंतजाम किए थे। अब तक 64 लाख टन से अधिक गेहूं की आवक हो चुकी है। फिलहाल डेढ़ से दो लाख टन गेहूं रोजाना आ रहा है। कुल खरीद 75 लाख टन के पार जाने की संभावना है। यदि पड़ोसी राज्यों से गेहूं की आवक हुई तो थोड़ा बढ़ भी सकता है। अब तक मंडियों में करीब 85 फीसदी गेहूं की आवक हो चुकी है।
पिछली बार से 20 लाख टन कम आवक की उम्मीद
वर्ष 2019 में प्रदेश की अनाज मंडियों में करीब 93 लाख टन गेहूं की आवक हुई थी, जो आज तक का रिकार्ड है। अबकी बार यह आंकड़ा 15 से 20 लाख टन कम रह सकता है। क्योंकि लॉकडाउन की वजह से बार्डर सील हैं, हरियाणा के कुछ किसान दूसरे प्रदेशों में भी जमीन लेकर या ठेके पर खेती करते हैं। ऐसे में उनका गेहूं अभी नहीं पहुंच पाया है। इसके लिए सरकार योजना बना रही है।
हरियाणा राज्य कृषि विपणन बोर्ड के सीए डॉ. जे गणेशन ने कहा कि, प्रदेश की अनाज मंडियों में 64 लाख टन से अधिक गेहूं खरीदा जा चुका है। मंगलवार को खरीद प्रक्रिया की समीक्षा की गई, जहां पर गेहूं नहीं आ रहा, वे करीब 550 खरीद केंद्र बंद किए जाएंगे। मंडियों से गेहूं का उठान तेजी से हो रहा है।