ज्वेलर्स ने बाजार को चार जोन में बांटा, सुनारों वाली गली की रखेंगे केवल एक एंट्री, ग्राहकों को देंगे मास्क

  • निगम की टीमाें ने काटे 8 दुकानदारों के चालान, 16 हजार रुपए जुर्माना लगाया, ज्वेलर्स ने बनाई प्लानिंग

रोहतक. लॉकडाउन के दौरान नंबर फार्मूला और तय की गई गाइडलाइन के मुताबिक दुकानें न खाेलने अाैर साेशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करने के कारण बुधवार काे 8 दुकानों के चालान काटे गए। नगर निगम की टीमें दिन में ही बाजार में निकल पड़ी और दिनभर सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक कार्रवाई की गई। इसके तहत लाॅकडाउन के नियमाें काे ताेड़ने वाले दुकानदाराें के साथ सख्ती दिखाई गई। इसी के चलते बुधवार काे नगर निगम की टीम ने शहर में 16 हजार रुपए के चालान काटे। इसमें झज्जर रोड, रेलवे रोड, पुरानी सब्जी मंडी, बड़ा बाजार, माल-गोदाम रोड, डी-पार्क, पावर हाउस की मार्केट में जाकर निरीक्षण किया। मौके पर जिन दुकानों में सोशल डिस्टेंसिंग नहीं मिली और जो दुकानें गलत नम्बर वाले दिन खुली हुई मिली उन दुकानों के 1000 के चालान काटे गए। जाे दुकानें शाम 5 बजे के बाद खुली हुई मिली, उनके खिलाफ भी कार्रवाई की गई। इसके लिए चालान भी काटे गए। उन दुकानाें में लाेगाें की भीड़ ज्यादा मिलने के कारण दुकान मालिक का 5000 रुपए का चालान काटा गया अाैर नोटिस देकर दुकानों को मौके पर ही बंद करवाया गया। वहीं, ज्वेलर्स ने ज्वेलर्स फाइट कोरोना समन्वय समिति का गठन करके बाजार के कई रास्ते बंद करने का निर्णय लिया है। अब वे खुद नियमों की पालना करवाएंगे। सुनारों वाली गली में सिर्फ एक ही रास्ता रखेंगे। बाकी को बेरिकेड्स लगाकर बंद कर देंगे।

दुकान का शटर गिराकर अंदर बेच रहे थे सामान:

प्रशासन की ओर से सायं 5 बजे दुकानें बंद करने का समय निर्धारित करने के बावजूद दुकानदार मान नहीं रहे। थोड़े से लालच के चक्कर में सायं 5 बजे के बाद शटर गिराकर सामान बेचा जा रहा है। ऐसा ही मामला डी-पार्क पर भी देखने को मिला। गारमेंट शॉप पर शटर डाउन कर सामान बेचा जा रहा था। अंदर काफी संख्या में ग्राहक खड़े थे। उसका 5 हजार रुपए का चालान काटा गया।

^शहर में लगातार स्वर्णकारों के चालान काटे जा रहे हैं। यह ठीक नहीं है। इसी को लेकर अब शहर के ज्वेलर्स बाजार को चार जोन में बांट दिया गया है। इसके तहत अब ज्वेलर्स फाइट कोरोना समन्वय समिति का गठन किया गया है। इसमें सुरक्षा के लिए भी अब स्वयं ही कदम उठाने पड़ेंगे। वहीं सुनारों वाली गली के दो-तीन रास्ते हैं। ऐसे में अब उसकी सिर्फ एक ही एंट्री रखी जाएगी ताकि रेलवे रोड पर सुनारों वाली गली से एंट्री होने वाले हर ग्राहक को कॉर्नर पर ही सेनिटाइज किया जा सके और यदि ग्राहक मास्क नहीं डालता है उसे मास्क दिया जाएगा। इसी तरह के कदम शोरूम पर भी किए जाएंगे। एसोसिएशन की ओर से कॉटन के एक हजार मास्क भी बनवाए गए हैं। वहीं, डीसी से मांग की जाएगी कि ज्वेलरी बाजार के उचित संचालन के लिए ज्वेलरी से संबंधित सभी तरह की दुकानों को सप्ताह में 6 दिन खोला जाए ताकि काम ना रुक सके।
– राकेश वर्मा, प्रधान, गोल्ड स्मिथ एंड ज्वेलर्स एसोसिएशन।

ज्वेलर्स बाजारों के कई एंट्री प्वाइंट बंद करने के लिए करेंगे बेरिकेडिंग: रोजाना काटे जा रहे चालानों को देखते हुए अब गोल्ड स्मिथ एंड ज्वेलर्स एसोसिएशन ने बुधवार को अपने स्तर पर भी स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर यानि एसओपी जारी कर दी। इसके लिए एसोसिएशन के प्रधान राकेश वर्मा की ओर से 7 पेज का प्लान भेजा गया है। इसमें ज्वेलर्स बाजार को चार जोन में बांटा गया है। इनमें रेलवे रोड, सुनारों वाली गली, बड़ा बाजार और कैम्प को जोन में रखा गया है। ज्वेलर्स फाइट कोरोना समन्वय समिति का गठन किया गया है। यह समिति नगर निगम और पुलिस अधिकारियों के साथ परामर्श करेगी। यह सुनिश्चित करने के लिए बेरिकैड्स लगाकर प्रवेश और निकासी के प्वाइंट की संख्या कम करने की रणनीति बनाएंगे ताकि अवांछित व्यक्ति ज्वेलरी बाजार और उसकी गलियों में प्रवेश न करें। इसी के चलते सुनारों वाली गली के दो-तीन छोटे रास्तों को बंद करके सिर्फ एक मुख्य एंट्री को ही खोला जाएगा। यहां पर बेरिकैड्स लगाकर आने वाले ग्राहक को सेनिटाइज करने और मास्क की व्यवस्था की जाएगी। इसके अलावा थर्मल स्कैनिंग भी की जाएगी। इसके अलावा किसी भी ग्राहक का बिना तापमान जांचे किसी भी शोरूम, दुकान या कार्यालय में एंट्री नहीं दी जाएगी।

सुरक्षा के लिए ज्वेलर्स यह अपनाएंगे मापदंड

{अनजान व्यक्ति से अभी डीलिंग ना करें।
{मास्क पहनकर आने वाले व्यक्ति को कैमरे में रिकाॅर्ड करें।
{दो से ज्यादा लोगों को अंदर प्रवेश न करने दें।
{ज्वेलरी के सामान काे ज्यादा डिस्पले न करें।
{लाइसेंस युक्त शस्त्र साथ रखें या सुरक्षा गार्ड तैनात करें।
{आने वाले हर व्यक्ति का लिखित में रिकॉर्ड रखें।
{किसी भी तरह की उधार सेल न करें।