सेक्टर-18 की सड़कों से बजरी बाहर निकली

  • बजरी पर फिसल कर दोपहिया वाहन चालक हो रहे जख्मी

यमुनानगर. शहर के पॉश एरिया सेक्टर 18 की सड़कें बदहाल हैं। यहां सड़कों से बजरी बाहर आ गई है जिसके चलते दोपहिया वाहन चालक स्लिप हो रहे हैं। अधिकारियों की ओर से सेक्टरों के विकसित होने के बाद यहां कोई ध्यान नहीं दिया गया। नतीजतन सड़कें जर्जर हो गईं। सड़कों में गड्ढे बने हैं। वार्ड पार्षद रामआसरा भारद्वाज का कहना है कि सड़कों की हालत दिनोदिन खराब हो रही है। इसके लिए फाइल भेजी है। पंचकूला आॅफिस से मंजूरी के बाद कार्य शुरू होगा।
राहगीर रविंद्र व मनोज ने बताया कि सड़क चलने लायक नहीं रही। छह माह पूर्व शुरू हुआ मरम्मत व निर्माण का काम बीच में रोक दिया गया। इससे दिक्कत और बढ़ गई। जिन स्थानों पर मरम्मत की, वहां की हालत फिर से पहले जैसी हो गई। चार वर्ष पहले सड़क का निर्माण हुआ उसके बाद यहां ध्यान नाम मात्र दिया गया। अनदेखी का आलम ये है कि पैदल चलना भी आसान नहीं है। वीर हकीकत राय पार्क के सामने की सड़क ज्यादा खराब है, इस पर तुरंत पैचवर्क कराए जाने की जरूरत है। लॉकडाउन के कारण यहां से कम लोग जा रहे हैं। सामान्य दिनों में यहां वाहनों का दबाव अधिक रहता है। प्रशासन को इस तरफ ध्यान देना चाहिए, जिससे समस्या से निजात मिल सके।

बुबका मार्ग का निर्माण एक वर्ष से अधूरा

बुबका तक का सड़क मार्ग बनाने का कार्य लगभग 1 वर्ष से अधूरा पड़ा हुआ है। ठेेकेदार ने सड़क पर पत्थर डालकर सड़क बनाने का कार्य बीच में अधूरा छोड़ दिया है। इससे ग्रामीण बेहद परेशान हैं। बुबका निवासी सचिन कांबोज, कुलदीप सिंह, सतीश, सतपाल, प्रवेश, पंकज, शिवम, रोमन, प्रमोद, मोहित, जगमाल, सुशील व नाथीराम आदि ने बताया कि रादौर से गांव बुबका तक का सड़क मार्ग टूटा था। इसका ठेका होने पर ठेकेदार ने सड़क पर महीनों पहले पत्थर डाले थे, लेकिन आज तक सड़क नहीं बन पाई है। पत्थरों से कई बार दुर्घटना हो चुकी हैं। लोग मजबूरी में बुबका से रादौर वाया चमरोड़ी या बापौली होकर आते हैं जिस कारण उन्हें अधिक समय व धन की बर्बादी करनी पड़ती है। बुबका के सरपंच सुनील कांबोज ने बताया कि मामले को लेकर कई बार पंचायत पीडब्ल्यूडी अधिकारियों से मिली, लेकिन समस्या का समाधान नहीं हुआ। पीडब्ल्यूडी के एसडीओ रणबीर सिंह नेहरा ने बताया कि जल्द ही रादौर से बुबका सड़क के अधूरे कार्यों को पूरा करा दिया जाएगा।