डिस्ट्रेस टोकन से जरूरतमंद लोगों को मिलेगा राशन

  • झज्जर जिला में 5972 डिस्ट्रेस राशन टोकन से मिलेगा 23,888 व्यक्तियों को निशुल्क राशन
  • प्रत्येक परिवार को 1 किलोग्राम दाल, प्रति सदस्य 5 किलो गेहूं मिलेगा प्रति माह
  • हरियाणा सरकार प्रवासी श्रमिकोंं को लॉकडाउन में दे रही है भरपूर सहयोग

झज्जर, 13 मई
          कोविड-19 वैश्विक महामारी के इस दौर में कोई भी व्यक्ति लॉकडाउन की स्थिति में राशन बिना न रहे इसके लिए हरियाणा सरकार की ओर से डिस्ट्रेस राशन टोकन देते हुए जरूरतमंद लोगों को राशन की उपलब्धता सुनिश्चित की जा रही है। झज्जर जिला में अब तक 5972 डिस्ट्रेस राशन टोकन के माध्यम से 23,888 व्यक्तियों को निशुल्क गेहूं व दाल पहुंचाने के लिए कदम बढ़ाए जा रहे हैं। साथ ही खाद्य एवं पूर्ति विभाग कार्यालय झज्जर की ओर से अब तक कुल 11,524 डिस्ट्रेस राशन टोकन की मैपिंग जिला की उचित मूल्य की दुकानों के माध्यम से हो चुकी है।
        गौरतलब है कि कोरोना वैश्विक महामारी से उत्पन्न हुई आपात स्थिति व लॉकडाउन की वजह से गरीब व जरूरतमंद लोगों सहित प्रवासी श्रमिकों को मई व जून माह 2020 के लिए डिस्ट्रेस राशन टोकन जारी किए जा रहे हैं। इन टोकन के माध्यम से जरूरतमंद परिवारों व व्यक्तियों को 5 किलोग्राम गेहूं प्रति व्यक्ति तथा एक किलोग्राम दाल प्रति परिवार प्रति माह निशुल्क उपलब्ध कराई जा रही है।

1194 क्विंटल 40 किग्रा गेहूं तथा 59 क्विंटल 70 किग्रा दाल हुई प्राप्त:
        जिला खाद्य एवं पूर्ति नियंत्रक कुशलपाल बूरा ने बताया कि झज्जर जिला में विभिन्न योजनाओं के पात्र लोगों व परिवारों सहित अब तक विभागीय स्तर पर 11524 डिस्ट्रेस राशन टोकन की मैपिंग की जा चुकी है और विभाग की ओर से उन्हें 5972 डिस्ट्रेस राशन टोकन के माध्यम से 23,888 लोगों के लिए 1194 क्विंटल 40 किलोग्राम गेहूं तथा 59 क्विंटल 70 किलोग्राम दाल प्राप्त हुई है। उक्त प्राप्त राशन को विधानसभा अनुसार जरूरतमंद टोकन धारकों को राशन डिपो के माध्यम से निशुल्क राशन दिए जाने की प्रक्रिया अमल में लाई जा रही है। डिस्ट्रेस राशन टोकन का वितरण संबंधित एसडीएम की देखरेख में किया जाएगा। उसके उपरांत टोकन प्राप्त परिवार अथवा व्यक्ति राशन प्राप्त करते समय डिपोधारक को केवल डिस्ट्रेस राशन टोकन व आधार पहचान पत्र दिखाने पर राशन ले सकता है।

कौन -कौन हैं राशन लेने के पात्र:
     उपायुक्त श्री जितेंद्र कुमार का कहना है कि कोविड-19 वैश्विक महामारी के कारण सरकार की ओर से स्वास्थ्य सुरक्षा के दृष्टिगत किए गए लॉकडाउन में कोई भी जरूरतमंद व्यक्ति अथवा परिवार भूखा न रहे इसके लिए हरियाणा सरकार पूरी मददगार बन रही है। उन्होंने खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले की ओर से जारी किए गए निर्देशों की जानकारी देते हुए बताया कि ऐसे परिवार अथवा व्यक्ति जिनके द्वारा गरीबी रेखा से नीचे अर्थात बीपीएल राशन कार्ड हेतू आवेदन किया हुआ है और वे जिला स्तरीय कमेटी द्वारा वैरिफाइड किए जा चुके हैं परंतु बीपीएल कार्ड अभी जारी नहीं हुआ है, साथ ही मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना के तहत जिनकों पूर्व में एपीएल कार्ड जारी किए गए थे, जिला प्रशासन द्वारा गठित लोकल कमेटी द्वारा किए गए सर्वे उपरांत चयनित परिवार, व्यक्तियों की सूची तथा मुख्यमंत्री ट्वीटर हैंडल के माध्यम से प्राप्त आवेदनों की सूची जो जिला प्रशासन से प्राप्त हुई है, की श्रेणियों के परिवारों अथवा व्यक्तियों को ही डिस्ट्रेस राशन टोकन जारी किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि संबंधित विभाग को पूरी गंभीरता से कार्य करने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं।