आर्मी जवान बन शातिर ने 38 हजार रुपए ठगे

पानीपत. इंडियन आर्मी का जवान बनकर ठग ने बहन की शादी के लिए फर्नीचर खरीदने के बहाने रेलवे रोड के एक दुकानदार से 38 हजार रुपए की ठगी कर ली। ठग ने फोन कर डबल बेड, सोफा और गद्दे की फोटो मंगवाई। फर्नीचर पसंद कर 32 हजार में सौदा हुआ। फिर ठग ने ऑनलाइन रुपए भेजने के लिए 4 बार कोड भेजकर 38 हजार रुपए खाते से निकाल लिए।
ठग इतना शातिर है कि उसने ठगी के लिए जो बार कोड भेजे, उस पर भी इंडियन आर्मी मशीन लिखा है और अपनी वाॅट्सएप डीपी भी आर्मी जवान का फर्जी फोटो लगा रखा है। ठग कॉल करके रुपए लौटाने के बहाने दुकानदार को बार कोड भेजकर और रुपए ठगने की कोशिश में है, लेकिन दुकानदार को अब पता चल गया कि उसके साथ आर्मी जवान के रूप में ठग ठगी कर रहे हैं। उसने सिटी थाने में केस दर्ज कराया है। ठग ने कहा कि वह ऑनलाइन रुपए ट्रांसफर करेगा। तब धीरज ने उसको फोन पे का बार कोड भेज दिया। बोला कि पहले खाता चेक कर लेते हैं, इसलिए 10 रुपए भेजने की बात कही और एक बार कोड भेजा। बार कोड खोलते हुए धीरज के खाते में 10 रुपए आ गए। इससे ठग ने धीरज का विश्वास जीत दिया। फिर थोड़ी-थोड़ी अंतराल में 20, 10, 5 और 3 हजार के बार कोड भेजे। लेकिन इस बार रुपए खाते में जमा होने की बजाए धीरज के खाते से कट गए।
ठग बोला- समालखा से हूं, अहमदाबाद है ड्यूटी अंसल सुशांत सिटी के सी ब्लॉक में रहने वाले धीरज बतरा पुत्र अश्वनी बतरा की रेलवे रोड पर पानीपत फर्नीचर हाउस के नाम से दुकान है। धीरज ने बताया कि सोमवार दोपहर को उनके पास अज्ञात नंबर से एक कॉल आई। कॉल करने वाले ने कहा कि वह समालखा का रहने वाला है। आर्मी में जवान है और अभी अहमदाबाद एयरपोर्ट पर तैनात है। बहन की 21 मई की शादी बताते हुए उसने फर्नीचर खरीदने की बात कही। तब ठग ने धीरज से सोफा, डबल बेड व गद्दे की फोटो वाॅट्सएप करने के लिए बोला। तब धीरज ने फोटो भेज दी। आइटम पसंद करने पर 35 हजार रुपए बने। उनका 32 हजार रुपए में सौदा तय हुआ।