CM नीतीश कुमार ने की PM से 31 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने की अपील

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार में बढ़ते कोरोना संकट के बीच लॉकडाउन 31 मई तक बढ़ाने की वकालत की है. कोरोना पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन को लेकर केंद्र सरकार जो फैसला लेगी, बिहार उसके साथ रहेगा. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन की अवधि बढ़ेगी, तो बाहर से आ रहे लोगों को संभालने में सहूलियत होगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन रहेगा, तो बाहर से आनेवाले में से संदिग्धों की पहचान हो सकेगी और दूसरे लोगों को संक्रमण से बचाया जा सकेगा. उन्होंने कहा कि पहले से ही लॉकडाउन  के दौरान कुछ कार्यों के लिए छूट दी गई है और रोजगार सृजन के कार्य भी किए जा रहे हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कमार ने पीएम को बिहार में कोरोना की स्थिति के बारे में जानकारी दी. उन्होंने कहा कि अभी भी लोग बाहर से आ रहे हैं. उन्होंने कहा कि 4 मई से 10 मई के बीच 1 लाख से ज्यादा लोग आए हैं. उनमें 1,900 लोगों की रैडम टेस्टिंग कराई गई है, जिसमें 148 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार के बाहर दूसरे राज्यों में फंसे श्रमिकों, छात्रों जरूरतमंदों को ट्रेनों से लाने की अनुमति देने के लिए मैं केन्द्र सरकार को धन्यवाद देता हूं. दूर से आने के लिए ट्रेनें ही सबसे सहज माध्यम थीं. इससे लोगों को आने में सहूलियत हुई है.उन्होंने कहा कि 10 मई से 96 ट्रेनें आयी हैं, जिसके माध्यम से 1.14  लाख लोग राज्य में आए हैं. अगले 7 दिनों में 179 ट्रेनें और आने वाली है, जिससे ढाई लाख लोगों के आने की संभावना है, जो जानकारी मिली है, उसके मुताबिक और प्रवासी मजदूर बिहार आना चाहते हैं. सीएम ने पीएस से ट्रेनों की संख्या बढ़ाने की भी अपील की. साथ ही नजदीक के लोगों को बसों से भी लाने की व्यवस्था की भी अपील की. उन्होंने कहा कि जो प्रवासी मजदूर बिहार आना चाह रहे हैं, उन्हें 7-8 दिनों के अंदर पहुंचाने की व्यवस्था होनी चाहिए. सीएम ने कहा कि अभी बिहार में एक दिन में 1,800 सैंपलिंग की जा रही है, जिसे बढ़ाकर 10 हजार करना है. इसके लिये आरटीपीसीआर मशीन, ऑटोमेटिक आरएनए एसट्रैक्संस व आरटीपीसीआर मशीन में प्रयोग किये जाने वाले किट्स की जरूरत है. साथ ही सीएम ने 100 वेंटीलेटर की भी मांग की.