हरियाणा बहुत प्यारो प्रदेश जहां हमें कोई तकलीफ ना होई

महेंद्रगढ़. जिला प्रशासन की तरफ से मंगलवार मध्य प्रदेश के छतरपुर क्षेत्र के 780 प्रवासी मजदूरों को राजकीय पीजी कालेज महेंद्रगढ़ से रोडवेज की 42 बसों में बैठा कर नारनौल के लिए रवाना किया गया।
वहां से ट्रेन से एमपी के लिए रवाना किया जाएगा। एमपी के छतरपुर क्षेत्र के मजदूरों में शामिल मुकेश, द्राैपदी, बाबू, पुष्पा, अंजना, प्यारेलाल, ममता आदि से बात की गई तो उन्होंने कहा कि बाबूजी म्हारे को अपने घर भिजवाने के लिए सरकार एवं प्रशासन का बहुत धन्यवाद है। प्रदेश सरकार की जनहितैषी नीतियों के कारण हमें बहुत काम मिला तथा लाॅकडाउन के कारण अब हमें अपने घर जाने व अपने परिजनों से मिलने का समय मिला है। अगर सरकार एवं प्रशासन के आदेश हुए तो हम फिर वापस आएंगे। उन्होंने जिला उपायुक्त जगदीश शर्मा, पुलिस अधीक्षक सुलाेचना गजराज, महेंद्रगढ़ के एसडीएम विश्राम कुमार मीणा व डीएसपी यादराम सहित पुलिस पार्टी एवं चिकित्सकों का धन्यवाद किया और कहा कि हरियाणा बहुत प्यारो प्रदेश है और यहां हमने कोई तकलीफ ना होई।
एसडीएम ने प्रवासी मजदूरों से साेशल डिस्टेंसिंग की अपील की
पीजी कालेज से बसों को रवाना करने के दाैरान एसडीएम विश्राम कुमार मीणा ने बसों में बैठे प्रवासी मजदूरों से कहा कि वे अपने घर जाने के बाद भी सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए स्वयं एवं अपने परिवार काे कोरोना वायरस से सुरक्षित रखें। एसडीएम ने बताया कि प्रवासी मजदूरों को कई शेल्टर होम में रखा गया था। उनके आवेदन एवं इच्छानुसार उनके राज्यों में भेजने का सिलसिला जारी है। बीते दिन भी महिला कालेज में ठहरे 1769 प्रवासी मजदूरों को भिजवाया गया है जिन्हें 44 रोडवेज बसो में सहारनपुर, 15 बसें शामली व 5 बसों में मथुरा के प्रवासी मजदूरों को मेडिकल जांच, खाना एवं पानी की बोतलें देकर भेजा गया है। उन्होंने बताया कि रविवार काे 19 बसों में बिहार के अरहरिया के लिए 505 प्रवासी मजदूरों को भेजा गया है तथा आज मंगलवार को मध्य प्रदेश के छतरपुर क्षेत्र के 780 मजदूरों को 42 बसों में बैठाकर रवाना किया।
मजदूर ने दिया शिशु काे जन्म, नाम विश्वजीत रखा:इस अवसर पर एसडीएम ने एएसआई कुलदीप के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि माधोगढ़ चौकी क्षेत्र के अंतर्गत एक प्रवासी मजदूर को नवजात बच्चा पैदा हुआ। जिसका नाम विश्वजीत रखा गया जिसको खिलौने, कपड़े आदि देकर पुरस्कृत किया गया। जिसके संदर्भ में प्रवासी मजदूर के परिवार ने पुलिस एवं प्रशासन के प्रति अाभार जताया।