30 फीसदी लेबर के साथ फिर शुरू हुआ एनएच-11 का निर्माण

रेवाड़ी. लॉकडाउन में कुछ शर्तों और चुनौतियों के साथ इंडस्ट्री के साथ ही बाजार भी खुल चुके हैं। अब सड़कों पर भी फिर से काम होना शुरू गया है। रेवाड़ी से नारनौल होते हुए जैसलमेर तक बनने वाले एनएच-11 का काम भी नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने चालू करा दिया है। हालांंकि अभी साइट पर केवल 30 फीसदी ही लेबर है। इसलिए काम की रफ्तार बेशकर धीमी है, मगर राहत की बात ये है कि धीरे-धीरे ही सही अधूरा पड़ा हाईवे बनना तो शुरू हुआ। क्योंकि ज्यादातर बड़े प्रोेजेक्ट में तकरीबन लेबर बाहरी राज्यों की ही है। अब काेरोना महामारी को फैलने से रोकन के लिए किए गए लॉकडाउन के चलते काफी लेबर अपने राज्यों को लौट गई है। ऐसे में प्रोजेक्ट के समय पर पूरा होने पर कुछ संशय भी रहेगा। बता दें कि अटेली से रेवाड़ी तक के बीच तृतीय फेज का काम तेज गति से शुरू होने के बाद मार्च माह में पूर्ण बंद हो गया था। अब निर्माण एजेंसी ने इस मार्ग के लिए दोबारा से काम करना शुरू कर दिया है।
25 मार्च को केंद्र सरकार द्वारा लॉकडाउन के आदेश जारी होते ही काम पूरी तरह ठप हो गया था। महीनेभर बाद केंद्र सरकार की गाइडलाइन के बाद राज्य सरकार व जिला प्रशासन से भी संबंधित प्रोजेक्ट के अधिकारियों ने अनुमति ली। इसके बाद काम दोबारा शुरू किया गया है। बता दें कि जैसलमेर से रेवाड़ी तक बनने वाले इस राजमार्ग का निर्माण कई चरणों में किया जा रहा है। बीकानेर से नारनौल तक का कार्य 70 फीसदी से भी अधिक पूरा हो चुका है। अब तीसरे चरण में अटेली से रेवाड़ी तक के 50 किलोमीटर लंबे इस राजमार्ग का निर्माण किया जा रहा है। इस साल जनवरी माह में एजेंसी की तरफ से इसका काम शुरू कर दिया गया है जिसके तहत यहां पर अर्थवर्क से लेकर अंडरपास का कार्य बेहद तेज गति से प्रारंभ किया था।

केंद्र सरकार की गाइडलाइन के बाद हमने राज्य सरकार और जिला प्रशासन ने परमिशन ली थी। जो कि 20 अप्रैल को मिल गई थी। इसके बाद से सोशल डिस्टेंसिंग के साथ काम की रूपरेखा बनाई और जरूरी निर्देश दिए गए। इस समय करीब 30 फीसदी लेबर ही साइट पर है। कास्टिंग यार्ड, अंडरपास से लेकर मेन रोड पर मशीनों की मूवमेंट भी शुरू हो गई है। सीमित लेबर के साथ जितने भी काम हो पाएंगे, सभी किए जाएंगेे। -पीके कौशिक, डायरेक्टर, एनएच-11 प्रोजेक्ट।