सहायक डॉक्टर की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद लेसड़ीवाल गांव किया सील

  • सैंपल देने के बाद भी गांव आता रहा डॉक्टर

आदमपुर. गांव लेसड़ीवाल में रहने वाले व लाइफ लाइन किडनी अस्पताल जालंधर में सेवाएं दे रहे सहायक डॉक्टर की रविवार को कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। मौके पर पहुंचे थाना प्रभारी नरेश जोशी व जंडूसिंघा चौकी इंचार्ज जंग बहादर सिंह ने गांव में आने जाने वाले सारे रास्ते सील किए। वहीं हेल्थ टीम ने गांव व परिवार के संपर्क में आने वाले लोगों की जानकारी जुटानी शुरू कर दी है।

सेहत विभाग के एसआई प्रदीप ने बताया कि अभी सारे परिवार को घर में ही एकांतवास में रहने को कहा गया है और सोमवार सुबह डॉक्टर के पारिवारिक सदस्य जिनमें माता पिता, बहन, भाई, भाभी, दो नन्हे बेटे शामिल हैं को कोरोना टेस्ट के लिए सिविल अस्पताल जालंधर ले जाया जाएगा। कोरोना के लक्षण पाए जाने पर 28 अप्रैल को डॉक्टर के सैंपल लिए गए था। गांव वासियों ने बताया कि वे अक्सर नाइट ड्यूटी कर सुबह गांव लेसड़ीवाल आ जाते था, लेकिन 5 मई के बाद वे गांव आने की बजाय अस्पताल में ही रहने लगे। बड़े भाई ने डॉक्टर के घर आने के बारे में कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया।

कोई सीनियर डॉक्टर मौके पर नहीं पहुंचा

टेस्ट पॉजीटिव आने के बाद गांव में सिर्फ खानापूर्ति के लिए फील्ड में काम करने वाली टीम और कोरोना से जुड़ी कागजी कार्रवाई को निपटाने वाले कर्मी ही मौके पर पहुंचे, जबकि गांव वासियों का कहना था कि मौके पर डाक्टरों की टीम आनी चाहिए थी और परिवार को क्वारेंटाइन किया जाना चाहिए था, पर चूंकी आज रविवार है इसलिए सेहत विभाग के उच्च अधिकारियों ने सैंपल लेने व जांच करने का काम सोमवार पर डाल दिया है। वहीं कोविड -19 के स्टीकर भी टीम के पास नहीं थे, जिसके चलते एक फोटोकापी किया पेपर ही फेविकोल की बजाय से आटे चिपकाकर चले गए।