रेल मंडल ने 13 ट्रेनों में 16 हजार से ज्यादा श्रमिक गंतव्य तक पहुंचाए

  • कैंट रेलवे स्टेशन से आज मुजफ्फरनगर के लिए चलेगी श्रमिक स्पेशल ट्रेन

अम्बाला. श्रमिक यात्रियों को घर तक पहुंचाने के लिए रेलवे उनके लिए मददगार साबित हो रही है। अम्बाला रेल मंडल द्वारा अब तक पंजाब, हरियाणा व चंडीगढ़ से अब तक 13 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन कर 16 हजार से ज्यादा यात्रियों को गंतव्य तक पहुंचाया जा चुका है। हरियाणा व पंजाब के अलावा चंडीगढ़ प्रशासन की ओर से भी और स्पेशल ट्रेनें चलाने की मांग रेल मंडल से की जा रही है।
वहीं रविवार को मंडल के अधीन आने वाले स्टेशनों से 4 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई गई जिनमें हजारों यात्री गंतव्य की ओर रवाना हुए। पहली ट्रेन सुबह 11 बजे बठिंडा से बिहार के मुज्जफरपुर के लिए चली। इस ट्रेन में 1368 श्रमिक यात्री सवार थे। इसी तरह दूसरी ट्रेन शाम 5 बजे पटियाला से यूपी के अम्बेडकर नगर को रवाना हुई जिसमें 1138 यात्री सवार थे। तीसरी ट्रेन बठिंडा से शाम 5 बजे झारखंड के जिला डाल्टनगंज को रवाना हुई जिसमें 1180 यात्री सवार थे। शाम 6 बजे चंडीगढ़ से गौंडा जिला के लिए ट्रेन चली जिसमें 1188 श्रमिक यात्री सवार थे। अम्बाला रेल मंडल द्वारा अब तक कुल 13 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन किया जा चुका है जिसमें 16,263 यात्री सफर कर चुके हैं।
अभी और ट्रेन चलाने की आ रही मांग: रेल मंडल को अभी हरियाणा व पंजाब सरकारों के अलावा चंडीगढ़ यूटी प्रशासन की ओर से भी स्पेशल ट्रेन चलाने की मांग प्राप्त हो रही है। इन मांगों को रेलवे द्वारा प्राथमिकता के आधार पर लिया जा रहा है। अम्बाला कैंट स्टेशन से ही 11 अप्रैल को मुज्जफरपुर के लिए ट्रेन चलाने की योजना है।
स्टेशनों पर की मार्किंग: जिन स्टेशनों से श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है वहां प्लेटफार्म व सर्कुलेटिंग एरिया पर रेलवे द्वारा सोशल डिस्टेंस मेनटेन करने के लिए मार्किंग की गई है। यात्रियों को मार्किंग एरिया में ही खड़ा होने की हिदायतें दी जा रही है।