60 साल से पिरथला गांव के ग्रामीण कर रहे दो सड़कों का निर्माण करने की मांग, किसी ने नहीं सुनी फरियाद

  • गांव के बिजली घर से फतेहपुरी को जाने वाली और पारता रोड से ठरवी रोड जाने वाली सड़क का नहीं हुआ निर्माण

फतेहाबाद. पिरथला गांव को बसे सालों साल बीत चुके हैं लेकिन गांव की दो सड़कें आज भी कच्ची हैं। कच्चा रास्ता होने के कारण ग्रामीणों को एक से दूसरे गांव जाने के लिए परेशानियों का सामना करना पड़ता है। गांव वालों की मानें तो 60 साल से गांव वासी हर सरकार से सड़कों का निर्माण किए जाने की मांग करते रहे हैं परंतु किसी ने भी उनकी फरियाद नहीं सुनी।
जिस कारण गांववासियों में रोष व्याप्त है। उन्होंने दैनिक भास्कर के माध्यम से प्रदेश सरकार व प्रशासन से मांग की है कि इन सड़कों को निर्माण करवाकर सालों की समस्या का समाधान करवाएं।

वाहन तो दूर बैलगाड़ी चलाना भी मुश्किल
गांव निवासी अजय, जगदीश व विक्रम आदि ने बताया कि गांव के बिजली घर से गांव फतेहपुरी को जाने वाली करीब 3 किलोमीटर लंबी सड़क तथा पारता रोड से ठरवी रोड वाली फिरनी वाली प्रमुख सड़क करीब 1956 में जब से चकबंदी हुई है तभी से यह रास्ता कच्चा पड़ा हुआ है। उन्होंने कहा कि इन सड़कों की हालत इतनी खराब है कि कार चलाना तो दूर किसानों की बैलगाड़ी भी ठीक ढंग से नहीं चल पाती। चुनाव खत्म हो चुके हैं इसलिए अब इन कच्ची टूटी सड़कों से नेताओं को कोई लेना देना नहीं है।

पंचायत भी दे चुकी है प्रस्ताव
सरपंच प्रतिनिधि डॉ. दलवीर सिंह ने बताया कि इस संबंध में 19 जून 2018 को भी अंतिम प्रस्ताव पास कर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष को दिया था। उन्होंने बीडीपीओ को आवश्यक कार्रवाई के लिए लिखा भी था लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।

कोई ग्रांट नहीं आई
समाज शिक्षा एवं पंचायत अधिकारी हुक्म चंद ने बताया कि प्रस्ताव को उच्चाधिकारियों को भेजकर अवगत करवा दिया गया था लेकिन अभी तक कोई ग्रांट नहीं आई है।