शनिवार काे एक भी नया केस नहीं आने से मिली राहत, 6 मरीज ठीक हाेकर पीजीआई से घर लाैटे

  • शनिवार काे एक भी नया केस नहीं अाने से मिली राहत, 6 मरीज ठीक हाेकर पीजीअाई से घर लाैटे

झज्जर. काेराेना का झज्जर जिले पर अटैक हाेने के बाद हरराेज नए केस सामने आ रहे थे। शनिवार काे काेई भी नया केस नहीं आया। शुक्रवार काे भी बहादुरगढ़ में केवल एक केस आया था। वहीं, 5 लाेग ठीक हाेकर भी घर लाैटे थे। शनिवार काे राेहतक पीजीआई से 6 और लाेग ठीक हाेकर घर लाैटे। अब कुल 74 पाॅजिटिव मरीजाें में से 11 मरीज ठीक हाे चुके हैं। एक्टिव मरीज की संख्या 63 रह गई है। उम्मीद जताई जा रही है कि 5 और मरीज जल्द वापस आ सकते हैं। इनकी रिपाेर्ट भी निगेटिव आई है।
जिला स्वास्थ्य विभाग अब तक 3283 लोगों के कोरोना सैंपल जांच के लिए लैब में भेज चुके हैं इनमें से 3083 की रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है। वहीं, जिन 74 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी उनकी संख्या भी घटकर अब 63 हो गई है। 11 लोग घर वापसी कर चुके हैं, जबकि 125 की रिपोर्ट अभी बाकी है। झज्जर और बहादुरगढ़ की सब्जीमंडी से विभाग ने कुल 1431 सैंपल लिए और यहीं से सबसे ज्यादा केस सामने आए जबकि कुल रैंडम सैंपल 1739 जिले भर में किए गए हैं। वैसे अभी स्वास्थ्य विभाग के सर्विलांस पर 528 मरीज हैं और 63 लोग पीजीआई रोहतक में आइसोलेटेड हैं।

विदेश से आने वाले रुकेंगे गजराज होटल में, सिंगापुर का एक युवक क्वॉरेंटाइन

भारत सरकार द्वारा विदेशों में फंसे भारतीयों को लाने की प्रक्रिया शुरू होते ही झज्जर जिला प्रशासन भी इसके लिए तैयारी कर चुका है। झज्जर के जाखोदा रोड स्थित गजराज कॉन्टिनेंटल होटल को विदेश से आने वाले भारतीयों के लिए क्वॉरेंटाइन वार्ड में तब्दील किया गया है। शनिवार को सिंगापुर से एक युवक जब बहादुरगढ़ आया तब उसे इसी होटल में 14 दिन के लिए क्वॉरेंटाइन कर दिया गया। शनिवार को इसी तरह एक फैमिली बिराेहड़ गांव में गुजरात से आई। उसे भी 14 दिन के लिए क्वॉरेंटाइन कर दिया गया है।

तेज बुखार से श्रमिक की मौत पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ले गई शव : बहादुरगढ़

वार्ड 18 के रहने वाले एक 22 साल के युवक की तेज बुखार का कारण मौत हो गई। उसके भाई ने इसकी सूचना स्वास्थ्य विभाग को दी। मृतक तिलक कई दिनों से बुखार का शिकार था और वह शनिवार को सिविल अस्पताल में कोरोना जांच के लिए गया था। वहां श्रमिकों की भीड़ के कारण वह जांच करवाए बिना ही वापस आ गया। रात करीब 10 बजे स्वास्थ्य विभाग की टीम शव को अपने साथ अस्पताल ले गई है। यहां उसकी कोरोना जांच होगी। मृतक युवक यहां सेक्टर ़17 की एक प्राइवेट कंपनी में काम करता था और कानपुर का निवासी था।

मेडिकल करवाने के लिए अस्पताल के बाहर लगी भीड़

बहादुरगढ़ से अपने घर जाने के लिए 36 हजार लोगों ने रजिस्ट्रेशन करवाया है। रजिस्ट्रेशन होते ही हजारों की संख्या में प्रवासी लोग घर जाने से पहले मेडिकल कराने के लिए अस्पताल के सामने पहुंच गए। यहां 40 डिग्री तापमान में सड़क पर बैठकर अपनी बारी का इंतजार करने लगे। प्रवासियों का हजूम देखकर पुलिस व डाॅक्टरों के सामने संकट पैदा गया कि वे एक साथ इतनी बड़ी संख्या में सभी का मेडिकल कैसे करें। सिविल अस्पताल की प्रशासनिक अधिकारी डॉ. देवेंद्र मेघा ने बताया कि प्रशासन जिन लोगों को घर जाने की व्यवस्था की जानकारी देता है तो तब उन लोगों का मेडिकल होगा।