तेज तूफान के साथ हुई बारिश, दिन में ही हुआ अंधेरा, 13 मई तक पश्चिमी विक्षोभ दिखाएगा असर

  • रविवार को प्रदेशभर में बदला मौसम, तेज आंधी और बारिश ने बढ़ाई मौसम में ठंडक
  • मंडी में बिकवाली के लिए पहुंचा गेहूं बारिश की भेंट चढ़ा

पानीपत. पश्चिमी विक्षोभ से उत्तरी भारत का मौसम एकाएक बदल गया। खासकर हरियाणा में रविवार को तेज आंधी-तूफान के चलते दिन में अंधेरा छा गया। आसमान काली घटाओं से घिर गया और बारिश भी हुई। एकाएक मौसम का मिजाज बदलने से गर्मी से थोड़ी राहत जरूरी मिली, लेकिन मंडी में बिकवाली के लिए पहुंची गेहूं बारिश की भेंट चढ़ गई।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक 13 मई तक मौसम परिवर्तनशील रहेगा। आगामी तीन दिनों तक मौसम परिवर्तनशील रहेगा। आगामी 48 घंटों में मेघ गर्जना बारिश होने की संभावना है। रविवार सुबह आम दिनों की तरह धूप खिली थी लेकिन करीब 9 बजे मौसम अचानक से बदल गया। आसमान में बादल छा गए और तेज आंधी शुरू हो गई। आंधी के साथ-साथ बारिश शुरू हुई। पानीपत, करनाल, कुरुक्षेत्र में तेज आंधी और बारिश थी, जिससे सड़कों पर खड़े काफी पेड़ उखड़कर गिर गए।

चंडीगढ़ मौसम विभाग के निदेशक डॉ. सुरेंद्र पाल के अनुसार चंडीगढ़ में 22 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चली। वहीं एयरपोर्ट एरिया में 66 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार रही। शहर का अधिकतम तापमान 33 डिग्री दर्ज किया गया। आगामी तीन दिनों तक मौसम परिवर्तनशील रहेगा। तेज हवाओं के साथ बारिश भी हो सकती है।

हरियाणा में चली 40 से 50 किलो मीटर प्रतिघंटा से हवाएं
पश्चिमी विक्षोभ से हरियाणा के सभी जिलों में बारिश हुई है। प्रदेश में 40 से 50 किलोमीटर प्रतिघंटा तेज धूल भरी तेजहवाएं चली। करीब दो से तीन घंटे तक हवाओं एवं रिम-झिम बारिश से मौसम सुहावना हो गया। प्रदेश के पंचकूला, अंबाला, कुरुक्षेत्र, यमुनानगर, कैथल, जींद, करनाल, सोनीपत, पानीपत सहित सिरसा, फतेहाबाद, भिवानी, हिसार, चरखी-दादरी, झज्जर, रोहतक, रेवाड़ी व महेंद्रगढ़ में तेज हवाओं के साथ बारिश हुई। अभी तक प्रदेश में लू का प्रकोप भी देखने को नहीं मिला है। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार मई के दूसरे पखवाड़े से ही लू का प्रकोप शुरू हो सकता है।