अब अपने ही ब्लॉक में कोरोना संदिग्धों की हो सकेगी सैंपलिंग

  • मेडिकल ऑफिसर और दंत सर्जन को दिया जाएगा प्रशिक्षण

हिसार. कोरोना जांच के लिए सैंपल लेने वाली टीमों की संख्या में वृद्धि होगी। इसको लेकर ब्लॉक वाइज मेडिकल ऑफिसर और दंत सर्जन को ट्रेंड किया जाएगा। इसके बाद वे अपने-अपने ब्लॉक में कोरोना संदिग्धों व इनफ्लूएंजा इलनेस रोगियों के सैंपल ले सकेंगे। मुख्यालय से मोबाइल टीमों को सैंपल लेने के लिए दूसरे खंडों के गांवों में नहीं जाना पड़ेगा।
दरअसल, अभी जिला स्वास्थ्य विभाग के पास 3 डॉक्टर्स की मोबाइल सैंपलिंग टीम हैं, जोकि फील्ड में जाकर सैंपल लेती है। एक टीम दंत सर्जन डॉ. बंसीलाल, दूसरी टीम डॉ. रवि और तीसरी टीम डॉ. पुलकित की है। इनके अलावा पैथोलॉजिस्ट डॉ. मनीष पचार भी फील्ड में सैंपलिंग करते थे जोकि अब फ्लू क्लीनिक में अन्य डॉक्टर्स के साथ शिफ्ट में ड्यूटी करके सैंपल लेते हैं। नॉन स्टॉप टीमें सैंपलिंग में जुटी रहती हैं। न दिन का पता न रात का। इसलिए इन्हें राहत देने के साथ मुख्यालय पर टीम को मौजूद रखने को लेकर उक्त कदम उठाया है। डिप्टी सिविल सर्जन डॉ. जया गोयल ने बताया कि सैंपल लेने वाली टीमों को बढ़ा रहे हैं। इसके लिए ब्लॉक वाइज टीम का गठन किया जाना है। इनमें दंत सर्जन और मेडिकल ऑफिसर्स शामिल होंगे। इन्हें सैंपल लेने का प्रशिक्षण दिया जाएगा। मुख्यालय से टीम को दूसरे ब्लॉक सैंपल लेने नहीं जाना पड़ेगा।