बागपत प्रवासी मजदूरों को लेकर गई बस के चालक/परिचालक को यूपी पुलिस ने पीटा

  • मजदूरों को बसों से नीचे उतारे बिना ही वापस गन्नौर लानी पड़ी बसें, सुबह बदायूं के लिए किया रवाना

नारनौल. कनीना से गुरुवार सुबह प्रवासी मजदूरों को लेकर उत्तर प्रदेश के बागपत गई नारनौल रोडवेज डिपो की बसों के चालक/परिचालकों से प्रवासी मजदूरों को न उतारने देने को लेकर उत्तर प्रदेश पुलिस ने मारपीट की। इस दौरान रोडवेज के चालक/परिचालकों ने मौके पर डटे रह कर फोन पर नारनौल महाप्रबंधक समेत अन्य प्रशासनिक अधिकारियों को मामले से अवगत करवाकर समस्या का समाधान निकालने का आग्रह किया, लेकिन दो-तीन घंटे चली इस जद्दोजहद के बाद भी जिला प्रशासन कोई समाधान नहीं निकाल सका।
आखिर उत्तर प्रदेश पुलिस की जिद के चलते चालक/परिचालकों को प्रवासी मजदूरों को बसों से नीचे उतारे बिना ही रात को मजदूरों समेत बसों को वहां से वापस हरियाणा की सीमा में गन्नौर लाना पड़ा। जहां जिलाधीश ने रात को बसों को रुकवाकर चालक/परिचालकों व प्रवासी मजदूरों के ठहरने की व्यवस्था करवाई। शुक्रवार को जिलाधीश ने उत्तर प्रदेश के अधिकारियों से बात कर दोपहर करीब 1 बजे प्रवासी मजदूरों को लेकर बसों को बदायूं के लिए रवाना किया। इस घटनाक्रम को लेकर रोडवेज कर्मचारियों में रोष है। नाराज रोडवेज कर्मचारियों ने जिला प्रशासन से आगे प्रवासी मजदूरों को रिसीव करने की उचित व्यवस्था करने के बाद ही उन्हें यहां से भेजने की मांग की है।
हरियाणा रोडवेज महाप्रबंधक कार्यालय नारनौल के ड्यूटी क्लर्क अशोक कुमार ने बताया कि जिला प्रशासन ने गुरुवार सुबह कनीना से प्रवासी मजदूरों को लेकर डिपो की पांच बसों को उत्तर प्रदेश के बागपत के लिए रवाना किया था। इन बसों को सुदेशपाल, मंजीत सिंह, संदीप, पंकज, अजय कुमार, रामबीर, सतपाल, मंदीप, चंदनसिंह व कुलदीप आदि चालक/परिचालक लेकर बागपत गए थे। रोडवेज बसों के बागपत पहुंचने पर वहां की पुलिस ने चालक/परिचालकों को वहां प्रवासी मजदूरों को बसों से उतारने से मना कर दिया तथा तुरंत वहां से बसों को वापस लेकर जाने को कहा। इस पर चालक/परिचालकों हमें तो यहीं भेजा गया है। इसलिए हम अपने अधिकारियों से बात करने के बाद ही यहां से वापस जाएंगे। इस बात सुनकर पुलिसकर्मी तैश में आ गए और उन्होंने चालक/परिचालकों से गाली-गलोच करते हुए उनसे मारपीट भी की। इस बीच चालक/परिचालकों ने फोन पर रोडवेज महाप्रबंधक नवीन शर्मा व अन्य अधिकारियों को मामले से अवगत करवा समस्या का समाधान निकालने की बात कही। इस पर रोडवेज महाप्रबंधक व अन्य अधिकारियों ने इस मामले को लेकर जिला प्रशासन से बात की। इसके बाद जिला प्रशासन ने बागपत के प्रशासनिक अधिकारियों से बात की, लेकिन समस्या का कोई समाधान नहीं किया। इसके बाद प्रशासनिक अधिकारियों ने चालक/परिचालकों को रोडवेज बसों को गन्नौर ले जाने को कहा। इसके बाद चालक रोडवेज बसों को लेकर रात को गन्नौर पहुंचे। जहां वहां के जिलाधीश ने बसों को खड़ा करवा उनके ठहरने की व्यवस्था की। शुक्रवार सुबह जिलाधीश ने उत्तर प्रदेश के प्रशासनिक अधिकारियों से बात कर दोपहर 1 बजे बसों को उत्तर प्रदेश के बदायूं के लिए रवाना किया।