बर्खास्त टीचर अजय वालिया अब सांसद व सैनी सभा पर टिप्पणी कर फंसा

  • घर-घर जाकर मिड-डे मील बांटने का विरोध करने पर टीजीटी वालिया को बर्खास्त किया था
  • फिर फेसबुक पर वेब पोर्टल शुरू किया

अम्बाला. बर्खास्त टीचर अजय वालिया अब नारायणगढ़ की सैनी सभा और कुरुक्षेत्र के सांसद नायब सैनी पर टिप्पणी करने के मामले में फंस गया है। सैनी सभा ने वालिया के खिलाफ मानहानि और विभिन्न समुदायों के बीच शत्रुता फैलाने की धाराओं में केस दर्ज किया है।
यमुनानगर में ट्रेंड ग्रेजुएट टीचर (टीजीटी) रहे वालिया को करीब डेढ़ माह पहले सरकार ने बर्खास्त कर दिया था। वालिया ने लॉकडाउन के दौरान शिक्षकों को घरों में जाकर मिड डे मील बांटने के सरकार के फैसले का सोशल मीडिया पर विरोध किया था। यहां तक कह दिया था कि विभाग ने बिना दिमाग लगाए मूर्खतापूर्ण संक्रमण को फैलाने का ग्राउंड तैयार किया गया है।
सरकारी नौकरी से बर्खास्तगी के बाद वालिया ने फेसबुक पर वेब पोर्टल शुरू किया। वालिया ने एक समाचार पत्र में छपे सैनी सभा के विज्ञापन को लेकर सैनी सभा व सांसद नायब सैनी पर टिप्पणी की थी। जिसमें कहा था कि सभा ने -हम सबने अब यह ठाना है भारत से कोरना को भगाना है..को संत कबीर दास जी का दोहा बताया है। पुलिस को दी शिकायत में सैनी सभा के प्रधान केहर सिंह ने कहा कि जब से देश में लॉकडाउन है, तब से सैनी सभा जरूरतमंदों के लिए भोजन का इंतजाम कर रही है। इस कार्य में समाज के लोगों और सांसद नायब सैनी का परिवार बढ़ चढ़ कर सहयोग कर रहा है। सैनी सभा द्वारा किए गए सामाजिक कार्यों बारे बताया गया। जिसके बाद पूर्व शिक्षक वालिया ने एक विडियो वायरल कर सैनी सभा पर कई आरोप लगाए। जिससे सभा और सांसद की छवि को ठेस पहुंची।