पैरोल पर छूटे गैंगस्टर रणदीप ने 2 भाइयाें से वसूली 5 लाख फिरौती

  • जिनकी दुकान के आगे गैंगस्टर के पिता काका पहलवान की हत्या हुई थी, उनका अपहरण
  • पहलवान मर्डर केस में चश्मदीद गवाह है किडनैप भाइयों का पिता

अम्बाला. कोरोना संकट के चलते पैरोल पर जेल से बाहर आए गैंगस्टर रणदीप राणा ने आहलूवालिया बिल्डिंग में रहने वाले दो भाइयों का उन्हीं की आई-10 कार में अपहरण कर लिया। दोनों के साथ मारपीट की गई। उसके बाद 4 घंटे तक बब्याल में ओम अस्पताल के पास एक प्लॉट में बंधक रखा। आरोप है कि गैंगस्टर ने 5 लाख की फिरौती वसूल कर ही दोनों को छोड़ा। घटना शुक्रवार की है। कैंट सदर पुलिस ने शनिवार को सत्यम सूद की शिकायत पर रणदीप राणा, गौरव राणा, अंकित पांडेय व जानू के खिलाफ अपहरण कर मारपीट करने, बंधक रखने, धमकाकर पैसे वसूलने और आर्म्स एक्ट में केस दर्ज किया है।
सत्यम सूद के पिता अनिल सूद की गांधी मार्केट में सत्यम जनरल स्टोर के नाम से दुकान है। 31 जुलाई 2019 को रणदीप के पिता रिटायर्ड पुलिस सब इंस्पेक्टर सतविंद्र सिंह उर्फ काका पहलवान की सत्यम जरनल स्टोर के सामने ही गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उस दिन पहलवान सुबह सैर के बाद दुकान पर रोज की चाय पीने आए थे। अनिल सूद इस मामले में चश्मदीद गवाह हैं। गैंगस्टर रणदीप राणा को शक है कि उसके पिता की हत्या में सूद परिवार की भी भूमिका है। हालांकि अनिल सूद गैंगस्टर राणा को साफ कह चुके हैं कि हमलावर प्रीत के साथ उनका कोई संबंध नहीं है। पुलिस भी मामले में जांच कर चुकी है। फिर भी गैंगस्टर राणा मानने को तैयार नहीं है। इसी खुन्नस में गैंगस्टर रणदीप राणा ने दोनों भाइयों का न सिर्फ अपहरण किया बल्कि पांच लाख की फिरौती भी वसूली है।

दूसरे गैंगस्टर को वीडियो कॉल कर कहा- आज इन्हें काटेंगे

शुक्रवार दोपहर को छोटे भाई शिवम के साथ अपनी आई-10 कार में एकता विहार में दोस्त हर्ष के पास गया था। हर्ष घर पर नहीं मिला तो लौटते समय रामकिशन कॉलोनी में दोस्त अमन उर्फ गप्पू के पास रुक गए। तभी सफेद रंग की आई-20 कार आई और एक्टिवा पर जानू आया। कार में रणदीप राणा, अंकित पांडेय, गौरव राणा बैठे थे। रणदीप कार से उतरा और हमारी कार का दरवाजा खोलकर जबरदस्ती घुस गया। हमारे फोन छीन लिए। गौरव ने मुझे कपड़े उतारने के लिए बोला ताकि मेरी वीडियो बना सके। कहा कि यदि कपड़े उतारेगा तो वह मुझे माफ कर देंगे। जब मैंने मना किया तो हमें कार समेत टांगरी पार कृष्णा नगर के पास एक मोबाइल शॉप के पास ले गया। जहां पर दूसरे गैंगस्टर को वीडियो कॉल कर कहा कि आज इनको काटने के लिए ले जा रहे हैं। फिर कार में बब्याल में ओम अस्पताल के पीछे एक सुनसान प्लॉट में ले गया। जहां पिस्टल तान दी। हमारे फोन से अमन उर्फ गप्पू को फोन किया। करीब चार घंटे तक दोनों को बंधक बनाकर रखा और शाम को साढ़े 7 बजे गप्पू फिरौती की रकम लेकर पहुंचा। इसके बाद हमें छोड़ दिया ।-जैसा सत्यम ने सीआईए टू को बताया।
दुश्मनी की दूसरी वजह, 40 गज का प्लॉट
अनिल सूद के छोटे बेटे शिवम सूद ने 2 साल पहले बीडी फ्लोर मिल के पीछे 40 गज का प्लॉट अंकित पांडेय से लिया था। साढ़े 5 लाख रुपए लिए गए प्लॉट का बयाना भी शिवम के नाम पर ही है। अंकित पांडेय चाहता है कि उसका 40 गज का प्लॉट उसे वापस मिल जाए और उसे पैसे भी वापस न लौटाने पड़े। गैंगस्टर ने अंकित पांडेय का प्लॉट भी वापस लौटाने की धमकी भी किडनैपिंग के दौरान दी है।

वसूली के बाद रात को सूद को फोन पर धमकी भी दी

  • अनिल सूद – हैलो
  • राणा- एक कंप्लेंट से कुछ नहीं होता। अपनी तरफ से राणा की आवाज रिकॉर्ड कर लो। राणा प्रीत नहीं है कि दो पुलिस वाले देख कर डर जाएगा। रिकॉर्डिंग करो….सारे के बिस्तरें बिछवा दूंगा। सदर थाना नहीं आएगा।
  • सूद- सारे घर वालों को मार देना।
  • राणा – अरे, तेरे से नंबर लगाना शुरू कर दूंगा। एसएचओ सामने खड़ा करना, वह बचा लेगा क्या अब। पहले पर्चे कटवाउंगा, एक लड़के का, जो लड़की को परेशान करता है।

और एक युवती भी पहुंची थाने
इस विवाद के बीच शनिवार को एक युवती शिकायत लेकर सदर थाने में पहुंची। युवती ने आरोप लगाया है कि सत्यम उसके साथ छेड़छाड़ कर परेशान करता है।