नांदेड़ से आए दोनाें श्रद्धालुओं की दूसरी रिपोर्ट पॉजिटिव

  • वेंटिलेटर को वार्ड में लगाया, डॉक्टर भी रहेंगे तैनात, विभाग की 102 टीमें कर रहीं जिले भर में जांच

सिरसा. नांदेड़ से आए सभी 18 श्रद्धालुओं के रिपीट सैंपल ले लिए गए हैं जिनमें से 16 की रिपोर्ट निगेटिव जबकि 2 के रिपीट सैंपल पुन: पॉजिटिव आ गए हैं। अब स्वास्थ्य विभाग दोनों पॉजिटिव मरीजों के सैंपल चार दिन बाद पुन: भेजेगा। स्वास्थ्य विभाग की ओर से भेजे गए दो वेंटिलेटर भी सिरसा अस्पताल पहुंच चुके हैं और उन्हें स्थापित भी कर दिया गया है।
नांदेड़ से आए 18 श्रद्धालुओं में से 16 को डबवाली के राजकीय कॉलेज में क्वारेंटाइन किया गया है जबकि दो पॉजिटिव मरीजों को सिरसा सिविल अस्पताल स्थित आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है। यहां उनका इलाज चल रह है। 7 दिन के इलाज के बाद इन सभी के सैंपल जांच के लिए दोबारा भेजे गए। रिपोर्ट सभी की आ चुकी हैं। सभी 16 की रिपोर्ट निगेटिव आई है जबकि सिरसा अस्पताल में दाखिल दोनों पॉजिटिव की रिपीट रिपोर्ट भी पॉजिटिव ही आ गई है। अब पुन: चार दिन बाद इनके सैंपल जांच के लिए भेजे जाएंगे।

वेंटिलेटर चलाने की ट्रेनिंग भी दिलाई जा चुकी है

अस्पताल को स्वास्थ्य विभाग की विभाग की ओर से दो नये वेंटिलेटर्स मिल गए हैं। गुरुवार देर रात ये सिरसा पहुंच गए। शुक्रवार को सिविल अस्पताल में दोनों वेंटिलेटर को स्थापित कर दिया। इसके साथ ही डॉक्टर काे भी तैनात कर दिया है। एक डॉक्टर को वेंटिलेटर चलाने की ट्रेनिंग भी दिलाई जा चुकी है, जरूरत पड़ने पर इसका प्रयोग किया जा सके।

रैपिड किट से 5 नए लोगों की जांच पुलिस कर्मियों का भी चेकअप

गुरुवार को 43 नए सैंपल भेजे गए हैं। गुरुवार को पेंडिंग 101 में से 44 की रिपोर्ट निगेटिव भी आई है जिससे प्रशासन ने राहत की सांस ली है। अब 97 की रिपोर्ट का प्रशासन को इंतजार है। शुक्रवार को रैपिड किट से 5 लोगों की जांच की गई है। फ्लू ओपीडी में 288 लाेगों की जांच की गई। स्लम सर्वे में 435 लोगों की जांच हुई है। 44 सब्जी विक्रेताओं और 55 अखबार वितरकों की भी स्क्रीनिंग हुई है।

रेंडमली जांच की जा रही है: सिविल सर्जन

स्वास्थ्य विभाग की 102 टीमें लगातार जिला भर में अभियान चलाए हुए है। इन दौरान जो भी आशंकित मिलता है, उसका इलाज शुरू किया जाता है और सैंपल भी लिए जाते हैं। नांदेड़ से आए दोनों पॉजिटिव श्रद्धालुओं की रिपीट रिपोर्ट भी पॉजिटिव आ गई है।'' -डॉ. सुरेंद्र नैन, सिविल सर्जन, सिरसा।