दो दिन पहले गुरुग्राम से लौटा बलराज नगर का 23 वर्षीय युवक मिला पॉजिटिव

  • मारुति के प्लांट में काम करता था, वहां मिले थे कोरोना पॉजिटिव
  • लक्षण न होने पर भी अस्पताल में करवाई थी जांच

कैथल. गुरुग्राम से लौटा बलराज नगर गली नंबर एक का रहने वाला 23 वर्षीय युवक कोरोना पॉजिटिव मिला है। दो दिन पहले सात मई की सायं युवक कैथल लौटा था। युवक को पहले से ही खुद के कोरोना संक्रमित होने का एहसास था और इसलिए युवक लौटते ही पहले सीधा अस्पताल पहुंचा था। स्वास्थ्य विभाग ने युवक को होम क्वारेंटाइन कर दिया था और शुक्रवार सुबह फ्लू क्लीनिक में सैंपल लिया था। शनिवार सुबह रिपोर्ट आई तो युवक पॉजिटिव पाया गया। युवक को पहले जिला नागरिक अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर जांच के बाद आदेश मेडिकल कॉलेज शाहबाद रेफर कर दिया है। स्वास्थ्य विभाग ने युवक के संपर्क में आए परिवार के पांच सदस्यों (मामा, मामी, उनके दो बच्चे और युवक के भाई) और दो दोस्तों को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया है। देर सायं तक इनके सैंपल भी जांच के लिए भेजे जाएंगे। स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार राहत की बात ये है कि युवक लौटने के बाद से ही अन्य लोगों से नहीं मिला और खुद को सामने बने एक मकान में क्वारेंटाइन किया हुआ था और खुद ही जांच के लिए पहुंचा था। बता दें कि कैथल में अब तक दो ही मरीज सामने आए थे और कैथल को ऑरेंज जोन की श्रेणी में रखा गया है।
मारुति प्लांट में आईटीआई करने के बाद अप्रेंटिस कर रहा था, लॉकडाउन में वहीं फंस गया था
युवक गुरुग्राम में पिछले आठ महीने से गुरुग्राम के सेक्टर-18 में किराए के कमरे में दो अन्य लड़कों के साथ रहता था और एटलस चौक पर स्थित जय भारत मारुति प्लांट में आईटीआई करने के बाद अप्रेंटिस कर रहा था। लॉकडाउन के बाद से ही प्लांट बंद था, लेकिन जांच के दौरान दो से तीन कर्मचारी पॉजिटिव पाए गए थे। उसके बाद से ही युवक को कोरोना संक्रमित होने का संदेह था। हालांकि युवक में कोरोना के लक्षण नहीं थे।
31 दिन बाद आया केस, 4 अप्रैल काे आया था पहला केस
कैथल में 31 दिन बाद कोरोना का तीसरा केस सामने आया है। इससे पहले चार अप्रैल को दिल्ली मरकज से लौटा 62 वर्षीय सिरटा रोड महादेव कॉलोनी निवासी मदरसा संचालक व आठ अप्रैल को उनके संपर्क में आया 11 वर्षीय बच्चा अफाक कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। दोनों 23 व 24 अप्रैल को ठीक होकर आदेश मेडिकल कॉलेज शाहाबाद से कैथल पहुंचे थे। दोनों को 14 दिनों तक गुहला क्वारेंटाइन रखने के बाद शुक्रवार को डिस्चार्ज कर घर भेजा गया था।