जांच के लिए मुख्यमंत्री को भेजे एसआईटी पैनल के नाम, गृहमंत्री की पहली पसंद आईएएस खेमका

  • पुलिस महकमे से स्टेट विजिलेंस ब्यूरो के एडीजीपी सुभाष यादव और एक्साइज एंड टेक्सेशन डिपार्टमेंट से एडिशनल कमिश्नर विजय सिंह का नाम है
  • तीन सीनियर आईएएस में 1986 बैच के संजीव कौशल, 1987 बैच के टीसी गुप्ता और 1991 बैच के अशोक खेमका का नाम भी शामिल है

पानीपत. (मनोज कुमार) सोनीपत शराब घोटाले की पड़ताल के लिए तीन सीनियर अफसरों की एसआईटी का गठन मुख्यमंत्री मनोहर लाल करेंगे। एसआईटी में शामिल होने वाले अफसरों के नामों की सिफारिश गृह मंत्री अनिल विज की ओर से कर दी गई है। इसमें पुलिस महकमे से स्टेट विजिलेंस ब्यूरो के एडीजीपी सुभाष यादव और एक्साइज एंड टेक्सेशन डिपार्टमेंट से एडिशनल कमिश्नर विजय सिंह का नाम है। एसआईटी का नेतृत्व करने के लिए तीन सीनियर आईएएस के नाम भेजे हैं।

विज की ओर से भेजे गए तीन सीनियर आईएएस में 1986 बैच के संजीव कौशल, 1987 बैच के टीसी गुप्ता और 1991 बैच के अशोक खेमका का नाम शामिल हैं। गृह मंत्री ने खेमका का नाम प्राथमिकता पर रखा है। विज ने दूसरे नंबर पर तीनों में सीनियर आईएएस संजीव कौशल का नाम लिखा है, वे भी काफी सीनियर और सुलझे अफसर हैं। वे एक्साइज एंड टेक्सेशन डिपार्टमेंट रह चुके हैं और विभाग के बारे में अंदर तक बखूबी जानते हैं। टीसी गुप्ता इस समय बिजली समेत कई विभागों के साथ ही सीएम अनाउंसमेंट भी देख रहे हैं।

यह है पूरा मामला

  • सोनीपत के खरखौदा में पुलिस व एक्साइज डिपार्टमेंट के इंटर कनेक्ट दो गोदाम हैं। इनमें 2019 में तस्करों से बड़ी मात्रा में शराब जब्त कर रखी गई थी। अब वहां से शराब गायब है।
  • पुलिस ने शराब चोरी का केस दर्ज कराया है। एक्साइज डिपार्टमेंट ने स्टाॅक के मिलान में लगा हुआ है।
  • गृह मंत्री ने जांच उच्चस्तरीय कराने का निर्णय लिया है। अभी सामने आया है कि गोदामों में दूसरे राज्यों में बनी शराब भी बरामद हुई है।
  • आशंका है कि ये गोदाम ट्रांजिट सेंटर बना दिए गए और यहीं से शराब तस्करी का काम शुरू हुआ।
  • गोदाम भी उस व्यक्ति की पत्नी के नाम है, जिसके खिलाफ शराब तस्करी के कई केस दर्ज हैं।

सीएम नाम फाइनल करेंगे : विज

गृह मंत्री अनिल विज ने बताया कि तीन सीनियर आईएएस, एडीजीपी और एक्साइज डिपार्टमेंट अफसरों के नाम सीएम को भेजे हैं। वे हीं एसआईटी में अफसरों के नाम फाइनल करेंगे। मेरी प्राथमिकता आईएएस में अशोक खेमका हैं। दूसरे नंबर संजीव कौशल का नाम है। एसआईटी ऐसे संभावित अन्य मामलों की भी जांच करेगी।