रेवाड़ी के महिला महाविद्यालय की असिस्टेंट प्रोफेसर ने घर में लगाया फांसी का फंदा

  • पिता की शिकायत पर पति समेत चार पर दहेज हत्या का केस दर्ज
  • पति भी गुड़गांव में प्रोफेसर के पद पर कार्यरत है

रेवाड़ी. रेवाड़ी के सेक्टर-18 स्थित राजकीय महिला महाविद्यालय की असिस्टेंट प्रोफेसर ने बुधवार की रात को संदिग्ध हालात में अपने घर में फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। उनके पति भी प्रोफेसर के पद पर कार्यरत है। सूचना के बाद पहुंची पुलिस ने शव को फंदे से उतारकर पोस्टमॉर्टम करवाकर शव परिजनों को सौंप दिया। खोल थाना पुलिस ने घटना के संबंध में मृतका के पिता की शिकायत पर उनके पति सहित चार लोगों के खिलाफ दहेज हत्या का केस दर्ज किया है।

पति चार-पांच दिन से गुड़गांव में ही थे
डहीना चौकी प्रभारी एसआई बीरेंद्र सिंह ने मृतका माया देवी के पति भी गुड़गांव में प्रोफेसर के पद पर कार्यरत है। लॉकडाउन के कारण वे भी पिछले चार-पांच दिनों से घर नहीं आए थे। उन्होंने बताया कि प्रारंभिक जांच में आत्महत्या की कोई ठोस वजह सामने नहीं आई है। पिता ने आरोप लगाए हैं, जिसके आधार पर दहेज हत्या का केस दर्ज किया गया है, लेकिन पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में मौत की वजह से फांसी आई है। परिवार के सदस्यों ने भी किसी तरह के झगड़े से इंकार किया है।

भिवानी के कैरू गांव की थी, वर्ष 2011 में हुई थी शादी
खोल थाना पुलिस ने बताया कि गांव मूंदी निवासी एवं गुड़गांव कॉलेज में बतौर प्रोफेसर कार्यरत संदीप की पत्नी एवं असिस्टेंट प्रोफेसर माया देवी ने बुधवार रात को अपने घर में ही फांसी लगा ली। सुबह परिजन उठे तो छत पर बने कमरे में उन्हें फांसी के फंदे पर लटके पाया। मामले की जानकारी उनके पति के साथ पीहर पक्ष को दी। सूचना मिलने के बाद जिला भिवानी के गांव कैरू निवासी डूंगरसिंह अपने परिजनों के साथ मूंदी पहुंच गए। सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को फंदे से उतारकर उसे पोस्टमॉर्टम के लिए नागरिक अस्पताल भिजवा दिया।