मेरा पानी मेरी विरासत योजना से रुकेगा गिरता भूजल स्तर, मक्का बीजने पर मिलेंगे 7 हजार

  • धान के स्थान पर अन्य फसल उगाने वाले किसान को मिलेगी प्रोत्साहन राशि

शाहाबाद. हरियाणा सरकार ने जल संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए मेरा पानी मेरी विरासत योजना लांच की है। इससे गिरते भूजल स्तर को रोकने में मदद मिलेगी। विधायक रामकरण काला ने कहा कि इस योजना को लेकर क्षेत्र के लोगों को जागरूक किया जाएगा।
सरकार किसानों से अपील कर रही कि वे जिस प्रकार आने वाली पीढ़ी के लिए अपनी जमीन को विरासत के रूप में छोड़ कर जाते हैं। उसी प्रकार पानी को भी विरासत मान कर चले। तभी जमीन भावी पीढ़ी के लिए उपयोगी होगी इसके लिए राज्य सरकार की ओर से मेरा पानी-मेरी विरासत योजना की घोषणा की है। काला ने कहा कि इस सीजन में धान के स्थान पर अन्य वैकल्पिक फसल की खेती करने वाले किसानों को 7 हजार रुपए प्रति एकड़ प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।
जहां 35 मीटर, वहां नहीं लगेगी धान : काला ने कहा कि आज प्रदेश का कुछ हिस्सा डार्क जोन में है। इसमें 36 ब्लॉक ऐसे हैं, जहां पिछले 12 वर्षों में भू-जल स्तर में पानी की गिरावट दोगुनी हुई है। जहां पहले पानी की गहराई 20 मीटर थी, वो आज 40 मीटर हो गई है। उन्होंने कहा कि पंचायत के अधीन भूमि, जहां भूमि जल स्तर 35 मीटर से ज्यादा है, उन ग्राम पंचायतों को पंचायती जमीन पर धान लगाने की अनुमति नहीं होगी। प्रोत्साहन राशि पंचायत को दी जाएगी। किसान धान के स्थान पर कम पानी से तैयार होने वाली अन्य वैकल्पिक फसलें जैसे कि मक्का, अरहर, उड़द, ग्वार, कपास, बाजरा, तिल व ग्रीष्म मूंग (बैशाखी मूंग) की बुआई करने के प्रति अपना मन बनाएं। इससे भावी पीढ़ी के लिए पानी की उपलब्धता भी सुनिश्चित कर सकेंगे।
कहा कि मक्का की बिजाई के लिए आवश्यक कृषि यंत्रों की भी व्यवस्था की जाएगी। किसान सूक्ष्म सिंचाई व टपका सिंचाई प्रणाली अपनाते हैं तो 80 प्रतिशत की सब्सिडी दी जाती है। उन्होंने कहा कि किसानों को मक्का के उत्तम गुणवत्ता के बीज उपलब्ध करवाने के लिए कुछ कंपनियों को सूचीबद्ध किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जल संरक्षण की इस योजना की अधिक से अधिक किसानों को जानकारी मिले। इसके लिए इस योजना का प्रचार-प्रसार किया जाएगा और एक वेब पोर्टल भी बनाया जाएगा जिस पर कठिनाइयों को हल करने के लिए जानकारी दे सकेंगे। इस मौके पर जजपा शहरी प्रधान डा. प्रवीण शर्मा, हल्काध्यक्ष सुबे सिंह त्यौड़ी, पूर्व सरपंच विष्णु भगवान गुप्ता, जगबीर मोहड़ी, प्रभजीत सिंह जीता, रिंकू कठवा तथा मलकीत बीबीपुर मौजूद थे।