पैदल जा रहे मजदूरों को रास्ते में मनाने पहुंचीं तहसीलदार

  • पिहोवा में रह रही महिलाएं बच्चों को गोद में उठा पैदल ही निकली

पिहोवा. कोरोना के चलते पैदा हुए आर्थिक संकट के कारण अब मजदूरों का सब्र जवाब देने लगा है। इसी को लेकर अरुणाय रोड पर सरकारी बिल्डिंगों का काम शुरू न होने से परेशान मजदूरों ने पैदल ही पलायन शुरू कर दिया। जैसे ही प्रशासन को इसकी भनक लगी तो तहसीलदार चेतना चौधरी मजदूरों को मनाने पहुंची। तहसीलदार ने रास्ते में उन्हें रोककर समझाया। उनके ठहरने व खाने का इंतजाम किया। तब जाकर मजदूर यहां रुकने को राजी हुए।

सुबह प्रशासन को सूचना मिली थी कि अरुणाय रोड के निकट बाइपास पर कुछ लोग साइकिलों पर व पैदल ही घरों के लिए निकले हैं। जब तहसीलदार चेतना चौधरी मौके पर पहुंची तो देखा कि महिलाएं छोटे बच्चों को गोद में लेकर पैदल ही चल रही थी। मजदूर लाखन, मोहन लाल, देसराज, राजू, बबलू, गोबिंद, संगीता, मालती,ममता, पूजा आदि ने बताया कि वे मूलरूप से यूपी के रहने वाले हैं। यहां निर्माणाधीन सरकारी अस्पताल में मजदूरी करते थे। लॉकडाउन के बाद काम बंद हो गया।