पांचों वक्त की नमाज अदा करने के साथ शिव मंदिर में पूजा के साथ आरती में शामिल होता है सफी मोहम्मद का परिवार, मंदिर बनवाने में निभा रहा भूमिका

  • मैकेनिक की आस्था को देखकर बनाया मंदिर की समिति का कोषाध्यक्ष

हिसार. (महबूब अली) विनोद नगर में रहने वाले बाइक मैकेनिक सफी मोहम्मद का परिवार आपसी साैहार्द की अनूठी मिसाल कायम कर रहा है। सफी और उनका परिवार रमजान में राेजे रखने और पांचों वक्त की नमाज अदा करने के साथ-साथ पड़ोस के शिव मंदिर निर्माण करवाने में अहम भूमिका निभा रहा है।
सफी के परिवार के सदस्य न सिर्फ पुजारी के साथ आरती कराने, बल्कि पूजा करने में भी आगे रहता है। इनकी आस्था काे देखते हुए उन्हें मंदिर समिति का कोषाध्यक्ष भी बनाया गया है। परिवार के सदस्य मंदिर की साफ-सफाई में भी अहम भूमिका निभाते हैं।

शिव मंदिर सेवा समिति विनोद नगर के प्रधान श्याम सुंदर सैनी ने बताया कि सफी वाकई सामाजिक एकता की अनूठी मिसाल कायम कर रहे हैं। सफी के अलावा उसका बेटा इमराज, बेटी आशमा, पत्नी रितू मंदिर की साफ-सफाई के अलावा पूजा करने में आगे रहते हैं। हालांकि लाॅकडाउन के कारण सुबह और शाम हाेने वाली आरती में ही पुजारी रामू के साथ इमरान, आशमा शामिल हाे पाते हैं। यहीं नहीं यदि पुजारी नहीं हाेते हैं ताे इमरान और उसकी बहन आशमा खुद ही सुबह और शाम आरती करते हैं। हर काेई परिवार की सराहना कर रहा है।

शिव मंदिर सेवा समिति के प्रधान श्याम सुंदर सैनी और सहसंरक्षक रंजीत सैनी ने बताया कि सफी मंदिर के कोषाध्यक्ष भी हैं। इसलिए मंदिर में हाेने वाले सभी काम का ब्याेरा उन्हीं के पास रहता है। यहीं नहीं हर साल शिवरात्रि पर लगाएं जाने वाले भंडारे में भी सफी के परिवार की अहम भूमिका रहती है। शिवभक्ताें काे प्रसाद बंटवाने में परिवार आगे रहता है।

हिंदू मुस्लिम, अल्लाह-शिव भगवान एक

सफी उनके बेटे इमरान औैर बेटी आश्मा का कहना है कि हिंदू हाे या फिर मुसलमान सभी एक है। अल्लाह काे याद करें या फिर भगवान काे सभी एक ही है। सभी लाेगाें काे भेदभाव भुलाकर आपसी प्यार व साैहार्द्र के साथ रहना चाहिए। मंदिर में आरती औैर पूजा अर्चना से उन्हें जाे संतुष्टि मिलती है, उसे शब्दाें में बयां नहीं किया जा सकता है। आसंमा कुरान ए पाक की तिलावत भी करती है।

गायत्री मंत्र से लेकर कई तरह की आरती का ज्ञान

इमरान, आशमा औैर परिवार के अन्य सदस्याें काे गायत्री मंत्र से लेकर शिव औैर अन्य कई आरती का भी बखूबी ज्ञान है। ईद पर जहां माेहल्ले के हिंदू समुदाय के लाेग सफी के घर पर पहुंचते है वहीं दीपावली, हाेली पर सफी औैर उसका परिवार हिंदू परिवाराें के साथ जश्न मनाता है।
11 साल पूर्व शुरू कराया था मंदिर का निर्माण

मंदिर समिति के प्रधान श्याम सुंदर सैनी ने बताया कि विनोद नगर की जन संख्या करीब 1500 है। करीब 11 साल पू्र्व कालाेनी के सभी लाेगाें ने मिलकर मंदिर का निर्माण कराया था। हालांकि अभी भी निर्माण कार्य चल रहा है।