ठेके अलॉट न होने से कलायत नगर में अभी भी बंद पड़े हैं शराब के ठेके

कलायत. लॉकडाउन के तीसरे चरण में प्रदेश सरकार द्वारा जहां दुकानें व बाजार खोलने के आदेश देकर राहत दी गई है वहीं प्रदेश में शराब के ठेके खालने का फैसला सरकार द्वारा 5 मई को लिया गया वहीं 6 मई से निर्धारित समय अवधि व शर्तों के साथ शराब की बिक्री शुरू की गई। इस सबके बीच वे शराब के ठेके आज भी बंद हैं जो किन्हीं कारणों के चलते उस समय अलॉट नहीं हो पाए थे। अलॉट न हो पाने वाले ठेकों में कलायत शहर के ठेके भी शामिल है। कलायत नगर के ठेके बंद पड़े है। ठेकों के बंद होने के कारण में जब कलायत में ठेका का कार्य देख रहे व्यक्ति से जानकारी ली तो उन्होंने बताया कि जब सरकार व आबकारी विभाग द्वारा ठेकों के टेंडर आमंत्रित किए जाते हैं तो उस समय फीस भी निर्धारित की जाती है। निर्धारित लाइसेंस फीस से ऊपर जिस भी ठेकेदार की राशि होती है उसके नाम ही विभाग द्वारा ठेका अलॉट कर दिया जाता है। मगर जिन ठेकों की लाइसेंस फीस ठेकेदार को ज्यादा लगती है उस वैंड पर टेंडर नहीं लगाया जाता जिसके कारण वह वैंड अलॉट नहीं हो पाता। कलायत के ठेकों की लाइसेंस फीस को ध्यान में रखते ही किसी भी ठेकेदार ने इसमें रूचि नहीं ली जिसके कारण कलायत का रेलवे रोड, कैंची चौक सहित बाइपास का ठेका भी बंद पड़ा है।