जिले में अब रैपिड टेस्टिंग किट से टेस्ट होंगे, स्वास्थ्य विभाग को 600 किट मिली, पहले फ्रंट लाइन वर्कर्स की होगी जांच

  • गुरुवार को किट से सैंपल लेने वाली टीमों और आइसोलेशन वार्ड में तैनात डाॅक्टर्स व स्टाफ के 38 सदस्यों की रिपोर्ट निगेटिव मिली

कैथल. कैथल में भी अब रैपिड टेस्टिंग किट से जांच की शुरुआत हो गई। स्वास्थ्य विभाग को पहली खेप में 600 किट मिली हैं और जल्द ही दूसरी खेप मिलने की संभावना है। शुक्रवार को किट से कोरोना वायरस के सैंपल लेने वाली दोनों टीमों समेत आइसोलेशन वार्ड में तैनात डॉक्टर्स व स्टाफ की जांच की गई। सभी 38 स्टाफ सदस्यों की किट से की जांच रिपोर्ट निगेटिव मिली। बता दें कि किट से जांच करने के लिए खून की कुछ बूंद की ही जरूरत होती है और रिपोर्ट भी 10 मिनट के अंदर आ जाती है। जबकि गले और नाक का सैंपल लेकर की जानी वाली जांच प्रक्रिया में 24 से 48 घंटे का समय लग जाता है। अधिकारियों के अनुसार किट का इस्तेमाल पहले फ्रंटलाइन वर्कर्स की जांच के लिए किया जाएगा। बता दें कि देश में पहले चीन से ये किट मंगवाई गई थी, लेकिन जांच रिपोर्ट में खामियां मिलने के कारण ये कैंसिल कर दी गई थी। उसके बाद प्रदेश सरकार ने कोरियाई कंपनी से किट खरीदी थी। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की मानें तो अभी भी किट से की जानी वाली जांच के परिणाम पर भरोसा नहीं किया जा सकता है और यही कारण है पहले वर्कर्स की जांच करके इन किटों के रिजल्टों को परखा जा रहा है।
कोरोना पॉजिटिव ठीक होने पर डिस्चार्ज कर घर भेजे

कैथल में मिले दोनों कोरोना पॉजिटिव मरीज करीब एक महीने आठ दिन के बाद शुक्रवार को डिस्चार्ज कर घर भेज दिए गए। डिस्चार्ज करने से पहले दोनों के सैंपल लेकर जांंच के लिए भेजे गए थे और दोनेां की रिपोर्ट निगेटिव आई। उसके बाद स्वास्थ्य विभाग की एंबुलेंस दोनों को घर छोड़कर आई। बता दें कि दोनों कोरोना पॉजिटिव मिले इन मरीजों का संबंध तब्लीगी जमात से था। चार अप्रैल को सबसे पहले सिरटा रोड स्थित महादेव कॉलोनी निवासी 62 वर्षीय मदरसा संचालक पॉजिटिव मिले थे। उसके बाद उनके संपर्क में आया मदरसा का एक 9 वर्षीय छात्र अफाक भी पॉजिटिव मिला था। पॉजिटिव आने के बाद पहले कैथल और फिर शाहाबाद के आदेश मेडिकल कॉलेज में दोनों का इलाज चला था। 23 अप्रैल को अफाक और 24 को सफी मोहम्मद ठीक होकर कैथल आए थे और दोनों को 14 दिन के लिए गुहला क्वारेंटाइन सेंटर में रखा गया था।

बुधवार व गुरुवार को लिए सभी 146 सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव
स्वास्थ्य विभाग ने बुधवार को 119 और गुरुवार को लिए 27 सैंपल लिए थे। शुक्रवार को इन सभी 147 सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव मिली है। इनमें नाकों पर तैनात पुलिस कर्मचारियों और गुहला व सीवन अस्पताल के स्टाफ सदस्यों के सैंपल भी शामिल थे। इसके अलावा शुक्रवार को 78 सैंपल लिए गए हैं। इनमें राजौंद व जाखौली स्वास्थ्य केंद्र से 49 और बाकी सैंपल जिला नागरिक अस्पताल में बनाए गए फ्लू क्लीनिक से लिए गए हैं। अब तक पूरे जिले से 1403 सैंपल लिए गए हैं, जिनमें से 1322 सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है। अब तक कैथल में दो पॉजिटिव केस सामने आए हैं और कोई भी एक्टिव केस वर्तमान में नहीं है।

42 मोबाइल टीमें जांच चुकी 58 हजार लोगों का स्वास्थ्य: डीसी
डीसी सुजान सिंह ने बताया कि जिला प्रशासन द्वारा आमजन तक स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ पहुंचाने के लिए 42 मोबाइल टीमों का गठन किया गया है। अब तक ये टीमें 58 हजार 801 लोगों के स्वास्थ्य की जांच कर चुकी हैं। निशुल्क दवाइयां भी दी जा रही हैं।

अब तक की सभी जांच रिपोर्ट निगेटिव मिली हैं और हालात पूरी तरह से नियंत्रण में है। स्वास्थ्य विभाग के पास वर्तमान में 2154 पीपीई किट, 3329 एन-95 मास्क, 118 थर्मल स्कैनर तथा 203 ऑक्सीजन सिलेंडर हैं। लोगों से अपील है कि नियमों की पालना करें और बेवजह बाहर घूमने से बचें।
हरदीप दून, आइजी एवं नोडल अधिकारी, कैथल प्रशासन।