कोविड अस्पताल में एक और मरीज की मौत, उधर, पांचों कोरोना मरीजों के संपर्क में आए सभी लोगों की रिपाेर्ट निगेटिव

  • बुखार व कमजोरी के चलते अस्पताल में भर्ती था टोपरा का अख्तर अली, कोरोना जांच रिपोर्ट आना बाकी
  • राहत की बात… वीरवार को 151 रिपोर्ट आईं, सभी हैं निगेटिव,

यमुनानगर. बुखार और कमजोरी को देखते हुए कोविड अस्पताल में भर्ती किए गए गांव टोपरा निवासी अख्तर अली की मौत हो गई। उसका बुधवार को ही कोरोना जांच के लिए सैंपल भेजा गया है। फिलहाल उसकी रिपोर्ट नहीं आई है। रिपोर्ट आने के बाद क्लियर होगा कि मौत की वजह क्या है। कोविड अस्पताल में यह अब तक की तीसरी मौत है। इससे पहले वहां पर भर्ती किए गए दो लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि दोनों की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई थी। जो दो लोग इससे पहले मरे हैं, वे कुछ घंटे ही अस्पताल में रह पाए थे। उधर, वीरवार को सिविल अस्पताल में कोरोना के खौफ की एक तस्वीर और देखने को मिली। यहां तीन घंटे तक एंबुलेंस में एक महिला का शव पड़ा रहा। महिला की कैंसर से मौत हो गई थी, लेकिन परिवार को किसी ने गुमराह कर दिया कि संस्कार तभी हो पाएगा अगर उसकी कोरोना जांच होगी। महिला की बेटी और पिता एंबुलेंस में ही शव लिए तीन घंटे तक वहां पर खड़े रहे, लेकिन बाद में उन्हें वहां से ऐसे ही भेज दिया गया।

खौफ… कोरोना टेस्ट के लिए तीन घंटे शव एंबुलेंस में पड़ा रहा
रामनगर कॉलोनी निवासी उर्मिला देवी की कैंसर से मौत हो गई। उसका इलाज पंजाब के संगरूर में एक अस्पताल में चल रहा था। पटियाला में उसका मायका है। वहीं वहां पर इलाज करा रहे थे। वीरवार अल सुबह वहां पर मौत हो गई। परिवार के लोग संस्कार के लिए शव यमुनानगर ले आए। इसी दौरान किसी ने कह दिया कि पहले शव का कोरोना टेस्ट होगा, तब संस्कार कर सकेंगे। इस पर परिवार के लोग शव को एंबुलेंस में लेकर सिविल अस्पताल पहुंच गए। यहां पर तीन घंटे तक शव एंबुलेंस में रखा रहा। परिवार के लोग यहां पर डॉक्टर्स को पोस्टमार्टम करने को कहते रहे, लेकिन डॉक्टर भी पशोपेश में थे कि ऐसे कैसे पोस्टमार्टम करें। बाद में एक बजे परिवार के लोग शव वहीं से लेकर चले गए।

काेराेना मरीजाें के संपर्क में आए संक्रमण से बचे

वीरवार को 151 लोगों के सैंपल की रिपोर्ट आई। इसमें ज्यादातर उन लोगों की रिपोर्ट है जोकि कोरोना पॉजिटिव पाए गए पेशेंट के परिवार और उनके संपर्क में आए हैं। ये भी रिपोर्ट निगेटिव हैं। इससे यह राहत की बात है क्योंकि इस बात का डर था कि पॉजिटिव पाए गए लोगों के संपर्क में आए लोग भी संक्रमित हो सकते हैं। लेकिन वे संक्रमण की चपेट में आने से बच गए। जिला सर्विलांस अधिकारी डॉक्टर वागेश गुटैन ने बताया कि वीरवार शाम तक आई सभी रिपोर्ट निगेटिव हैं। वहीं जो कोरोना पेशेंट कोविड अस्पताल में भर्ती हैं, उनकी हालत भी ठीक है।
दोबारा भेजे गए पॉजिटिव मरीजों के सैंपल
डॉक्टर वागेश गुटैन ने बताया कि यमुनानगर जिले में इस समय कोरोना के पांच एक्टिव केस हैं। एक महिला पेशेंट सरोनी कॉलोनी की है। वहीं एक युवक कालिंदी कॉलोनी, एक व्यक्ति मॉडर्न कॉलोनी, एक महिला दुर्गा गार्डन और एक व्यक्ति गांव कुटीपुर का है। इन सभी का वीरवार को दोबारा कोरोना जांच के लिए सैंपल भेजा गया है। इनकी शुक्रवार या शनिवार को रिपोर्ट आएगी।

कई दिन से बुखार था, बुधवार को अस्पताल लाए : साजिद
गांव टोपरा निवासी अख्तर अली को कई दिन से बुखार था। वह काफी कमजोर हो चुका था। उसके भाई साजिद अली ने बताया कि पहले तो प्राइवेट अस्पताल में एडमिट कराया। डॉक्टर ने कहा कि ज्यादा कमजोरी है और कहीं ले जाना पड़ेगा। डॉक्टर ने ईएसआई अस्पताल में बनाए कोविड अस्पताल में भेज दिया। बुधवार को ही उनका कोरोना टेस्ट किया था। वीरवार सुबह मौत हो गई। उनका कहना है कि भाई मजदूरी करता था और उसे सिर्फ बुखार था। मौत के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए रखवा दिया है। जब तक रिपोर्ट नहीं आती, तब तक शव का पोस्टमार्टम नहीं होगा।