कैंट में लेफ्ट-राइट की दुकानें खुलने का फार्मूला जारी रहेगा सोशल डिस्टेंसिंग न अपनाने वाले दुकानदार का कटा चालान

  • कैंट एसडीएम सुभाष सिहाग ने नगर परिषद के साथ मिलकर बाजार और हिल रोड पर कार्रवाई की

अम्बाला. कैंट के सभी बाजारों में लेफ्ट-राइट का फार्मूला जारी रहेगा। एसडीएम सुभाष सिहाग ने नगर परिषद सचिव राजेश कुमार के साथ विभिन्न बाजारों का दौरा किया। चौड़ा बाजार में एक गारमेंट्स शॉप मालिक पर सोशल डिस्टेंसिंग की उल्लंघना करने पर 200 रुपए का जुर्माना लगाया गया है और चेतावनी दी गई है कि दोबारा सोशल डिस्टेंसिंग की अनुपालना मिली तो कानूनी कार्रवाई होगी।
एसडीएम के साथ हिल रोड पर भी सभी रेहड़ी वाले को चेतावनी दी गई है कि शनिवार से सामान जब्त करने की कार्रवाई होगी। एसडीएम और नप प्रशासन की यह कार्रवाई लेफ्ट-राइट की छूट के बीच बिगड़ती व्यवस्था के चलते की गई है। एसडीएम एक दिन लेफ्ट और दूसरे दिन राइट के दुकानदारों को सोशल डिस्टेंसिंग मेनटेन रखते हुए दुकानों को खोलने के आदेश दे चुके हैं। इसी आधार पर मार्केट बीते सोमवार से खोली जा रही है। इस व्यवस्था को सोमवार को एक सप्ताह होगा और दो दिन पहले एसडीएम ने इस व्यवस्था का विभिन्न बाजारों में रिव्यू भी किया है। रिव्यू के बाद एसडीएम ने लेफ्ट-राइट की व्यवस्था को आगे जारी रखने के आदेश मार्केट कमेटी को दिए हैं। इतना ही नहीं सोशल डिस्टेंसिंग की पालना नहीं करने वाले दुकानदारों के चालान भी काटने के आदेश दिए हैं।
पुल चमेली पर उल्लंघना : कैंट की पूल चमेली के आसपास सोशल डिस्टेंसिंग की कोई पालना नहीं हो रही है। यहां पर एक नहीं बल्कि कई दुकानों के बाहर भीड़ जमा रहती है। इसी प्रकार गुड़ बाजार, पंसारी बाजार और हिल रोड पर सोशल डिस्टेंसिंग को कोई ख्याल नहीं रखा जा रहा है। शाम पांच बजे के बाद पूरी तरह से लॉकडाउन की व्यवस्था है लेकिन शाम ढलते ही माया वाले चौक से लेकर दशहरा ग्राउंड के पास नमस्ते चौक तक लोग टोलियां बना कर सड़क किनारे बैठे रहते हैं।

हिल रोड पर रेहड़ी पलटने पर किया हंगामा
कैंट के हिल रोड पर नगर परिषद की टीम की ओर रेहड़ी पलट दी गई। इतना ही नहीं सभी रेहड़ी वाले अपनी रेहड़ियों को लेकर कार्यालय में पहुंचे। जहां पर नगर परिषद और रेहड़ी वालों के बीच काफी बहस भी हुई। सचिव ने रेहड़ी वालों से साफ कहा कि रेहड़ी लगाना मना नहीं है लेकिन एक जगह खड़ी होने की कोई अनुमति नहीं दी जाएगी। बाद में परिषद के सख्त रुख के चलते मामला शांत हुआ।