केयू में वेतन के साथ ही अटके एरियर, कंटिजेंसी और एजुकेशन अलाउंस के पैसे, पेंशनर्स में पेंशन को लेकर बढ़ रही बेचैनी

कुरुक्षेत्र. कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी में कर्मचारियों व शिक्षकों का वेतन के साथ ही एरियर, कंटीजेंसी और एजुकेशन अलाउंस का पैसा भी अटका है। दिलचस्प बात तो यह है कि डीए का जो एरियर अब तक कर्मचारियों व शिक्षकों को मिला भी नहीं उसे कर्मचारियों व शिक्षकों की इनकम में जोड़कर उसका टैक्स भी कट चुका है। इसके अलावा मार्च में हर साल प्रत्येक शिक्षक को मिलने वाली 4500 रुपए की कंटीजेंसी ग्रांट और कर्मचारियों व शिक्षकों को बच्चों की पढ़ाई के लिए मिलने वाला एजुकेशन अलाउंस भी नहीं मिला है। इतना ही नहीं कर्मचारियों को गेहूं खरीदने के लिए लोन की सुविधा मिलती थी, लेकिन इस बार गेहूं लोन भी नहीं मिल पाया। इधर कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी से सेवानिवृत्त हो चुके पेंशनर्स को भी अपनी पेंशन की चिंता सता रही है।
पेंशन व वेतन का समय पर हो भुगतान : कुंटिया के पूर्व महासचिव भारत भूषण और बलजीत सिंह ने कहा कि पेंशन व वेतन का समय पर कर्मचारियों को भुगतान होना चाहिए। भारत भूषण ने कहा कि कर्मचारी वेतन पर ही आश्रित होत हैं। वेतन के भरोसे ही कर्मचारी जरूरत के समय लोन लेता है। ऐसे में हर माह लोन की किश्त कटती है। इसके अलावा हर महीने के खर्चे भी कर्मचारियों व पेंशनर्स को चलाने होते हैं। बलजीत सिंह ने कहा कि प्रशासन को वेतन व पेंशन की व्यवस्था तो पहले ही करके रखनी चाहिए। ताकि किसी भी तरह की दिक्कत न हो। भारत भूषण ने कहा कि केयू प्रशासन डीए के एरियर का पैसा तो उनकी आमदन में जोड़कर काट भी चुका है लेकिन हकीकत में उन्हें डीए के एरियर का पैसा मिला ही नहीं है।
कुलपति ने दिया है सभी वित्तीय लाभ जल्द देने का आश्वासन

केयू शिक्षक संघ कुटा प्रधान डॉ. संजीव शर्मा ने बताया कि शिक्षकों को हर साल मार्च के महीने में कंटीजेंसी ग्रांट और बच्चों के एजुकेशन अलाउंस का पैसा मिलता है, लेकिन इस बार लॉक डाउन होने के कारण यह पैसा नहीं मिल पाया। डॉ. संजीव शर्मा ने बताया कि वे वेतन व वित्तीय लाभों को लेकर कुलपति से मिले थे। कुलपति ने आश्वासन दिया है कि जल्द ही वेतन की व्यवस्था करने के साथ ही सभी वित्तीय लाभ भी दिए जाएंगे। कुंटिया प्रधान नीलकंठ शर्मा ने कहा कि कर्मचारियों में वेतन व अन्य वित्तीय लाभ न मिलने के कारण बेचैनी बढ़ती जा रही है। उन्होंने कहा कि रोजाना कर्मचारी वेतन को लेकर खासतौर पर फाेन करके स्थिति पूछ रहे हैं। नीलकंठ शर्मा ने कहा कि इस मामले को लेकर केयू के प्रशासनिक अधिकारियों से बातचीत हुई है। इसमें अधिकारियों ने आश्वासन दिया है कि जल्द ही वेतन खातों में डाला जाएगा। केयू के जनसंपर्क विभाग के निदेशक प्रो. तेजेंद्र शर्मा ने बताया कि केयू प्रशासन का प्रयास है कि जल्द से जल्द वेतन का भुगतान किया जाए। उन्होंने कहा कि इसके लिए सभी जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। इसके चलते जल्द ही वेतन जारी कर दिया जाएगा। वहीं डीए के एरियर, कंटीजेंसी ग्रांट और एजुकेशन अलाउंस को लेकर उन्होंने कहा कि बजट आते ही सभी वित्तीय लाभ तुरंत जारी किए जाएंगे।

कोरोना से लड़ने की तैयारी : केयू में 12 स्थानों पर लगाए वॉश बेसिन
केयू में कर्मचारी व विद्यार्थी स्वच्छ व सेनिटाइज रहे, इसके लिए 12 सार्वजनिक स्थानों को चिन्हित करके वॉश बेसिन लगाए हैं। इन वॉश बेसिन का उद्घाटन गुरुवार को केयू कुलपति डॉ. नीता खन्ना ने किया। डॉ. नीता ने कहा कि स्वच्छता, सेनिटाइजेशन व सोशल डिस्टेंसिंग ही कोरोना से बचाव का रास्ता है। विश्वविद्यालय में आने वाले विद्यार्थी व कर्मचारी अपने हाथों को सेनिटाइज कर सकें, इसके लिए जगह-जगह पर वॉश बेसिन व सोप डिस्पेंसर लगाए हैं। कुलपति ने कहा कि कोरोना महामारी के समय विद्यार्थियों व कैंपस में आने वाले सभी लोगों को स्वच्छता का विशेष ध्यान रखना चाहिए। कुलपति ने कहा कि इस सुविधा से हजारों विद्यार्थियों व कर्मचारियों को लाभ होगा। कुलपति ने सेनिटाइजेशन व हॉर्टिकल्चर विभाग को भी निर्देश दिए हैं कि वे सभी विभागों व कार्यालयों का सेनिटाइज करवाएं। ताकि विश्वविद्यालय को खुलने के लिए तैयार किया जा सके। निर्माण शाखा के एक्सईएन पृथ्वी सैनी ने बताया कि प्रशासनिक ब्लॉक, यूनिवर्सिटी कॉलेज, यूनिवर्सिटी मार्केट, पुस्तकालय, हेल्थ सेंटर, इंस्टीट्यूट ऑफ लॉ, कॉमर्स विभाग, रोज गार्डन, न्यू मार्केट, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, स्पोर्ट्स ग्रांउंड, शूटिंग रेंज एवं एच टाइप हाउस सहित विभिन्न स्थानों पर वॉश बेसिन की व्यवस्था शुरू की है।