असीम गोयल- श्रमिक बॉर्डर कैसे लांघ रहे?, पंजाब पुलिस- ओ जांदे ने खेतां विच, रोक लो

अम्बाला. पंजाब की ओर से प्रवासी श्रमिकों की अम्बाला में पुलिस से झड़प के बाद सिटी विधायक असीम गोयल शंभू बाॅर्डर पर पहुंच गए। यहां पंजाब पुलिस के साथ उनकी बहस हुई। विधायक ने कहा कि पंजाब से लेबर को क्यों बॉर्डर पार करने दे रहे हो। पुलिस का ठेठ पंजाबी जवाब था- ओ जांदे पए ने खेतां विच… रोक लो। विधायक जब पहुंचे तो उन्होंने सड़क पर ही कार खड़ी करके पंजाब पुलिस से जवाबतलबी शुरू कर दी। इस पर पंजाब पुलिस के कर्मी भी ऐंठ में आ गए और बोले- पहले अपनी गाड़ी एक तरफ खड़ी करो। विधायक ने कार हरियाणा बॉर्डर में खड़ी होने के बात कही तो पुलिसवाले बोले ये पंजाब बॉर्डर है।
इस पर तकरार बढ़ गई तो पंजाब पुलिस के कर्मचारियों ने मोबाइल से वीडियो बनाना शुरू कर दी। विधायक के साथ आए लोगों से उनके नाम पूछने शुरू कर दिए। इस पर विधायक बोले- मेरा नाम भी पूछ लो- मैं असीम गोयल हूं। इस पर पंजाब पुलिस का जवाब बोला- वीडियो बन रही है, तुसी गलत न बोलो। विधायक ने किसी को फोन किया। कुछ देर बाद अम्बाला सदर की एसएचओ ट्रेनी आईपीएस अफसर निकिता खट्‌टर व डीएसपी हेडक्वार्टर सुल्तान सिंह मौके पर पहुंच गए। विधायक ने कहा कि पंजाब पुलिस बिना पास के भी लोगों को हरियाणा में एंट्री करा रही है। कोरोना क्या अकेले पंजाब वालों को होता है, हरियाणा वालों को नहीं होगा? पंजाब से साइकिल पर बरेली जाने के लिए भी पास बना दिया गया है जो मेरे पास पड़ा है। इस पर पुलिस के जवानों ने कहा कि उनके सामने से कोई बॉर्डर क्रॉस नहीं कर रहा है। एक एसआई ने खेतों की तरफ इशारा करते हुए कहा कि उनको वहां से जाकर रोक लें। जब विधायक ने कहा कि आप इन लोगों के पास चेक क्यों नहीं करते तो पंजाब पुलिस के एक कांस्टेबल ने कहा कि पहले आप अपना पास चेक कराओ।
विधायक ने वहां खड़े एक श्रमिक से पूछा कि वह कौन से रास्ते से आया है। क्या उसे पंजाब पुलिस ने रोका? इस दौरान श्रमिकों ने बताया कि वे पंजाब से अम्बाला पहुंचे थे लेकिन वहां से पुलिस ने वापस भेज दिया। विधायक ने कहा कि उन्हें श्रमिकों ने बताया है कि शंभू तक उन्हें किसी ने नहीं रोका बल्कि पंजाब पुलिस ने खेतों से निकलने के रास्ते बताए हैं। एसएचओ निकिता ने बताया कि वे इन श्रमिकों को वापस भेजते हैं तो वे खेतों में और अंदर से आगे बढ़ते हैं। वे इस मामले में पंजाब पुलिस से बात करेंगे।