9 मई से शुरू होगी किसानों को गेहूं की पेमेंट मिलने की प्रक्रिया, पहले दी जाएगी तीन दिनों में खरीदी गई गेहूं की पेमेंट

  • जिले में अभी तक 87 हजार 562 मीट्रिक टन गेहूं की हैं एक अरब 68 करोड़ 55 लाख 68 हजार 500 रुपये की पेमेंट

भिवानी. जिले में गेहूं की सरकारी खरीद 20 अप्रैल से शुरू हुई थी और अभी तक एजेंसियां अनाज मंडी व परचेजर सेंटरों से लगभग 87 हजार 562 मीट्रिक टन गेहूं की सरकारी रेट 1925 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से खरीद कर चुकी है।
9 मई से आढ़तियों के माध्यम से किसानों को गेहूं की पेमेंट करने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। अभी केवल दो दिन की खरीद की ही राशि आढ़तियों के खातों में पहुंची है। इसके अलावा मजदूरों की कमी के कारण उठान न होने पर भिवानी अनाज मंडी में अभी भी गेहूं से भरे लगभग डेढ़ लाख बैग मंडी में ही रखे हुए हैं।
जिले में गेहूं की सरकारी खरीद शुरू हुए 16 दिन हो चुके हैं, लेकिन किसानों को अभी तक अपने अनाज का एक रुपये भी नहीं मिला है। हालांकि खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग चंडीगढ़ की तरफ से सभी खरीद एजेंसियों को आढ़ती के माध्यम से किसानों के खातों से 9 मई से गेहूं की पेमेंट ट्रांसफर करवाने के निर्देश जारी कर दिए हैं। एजेंसियों को 20, 21 व 22 अप्रैल को खरीदी गई गेहूं की राशि आढ़तियों के खातों में डालने के निर्देश दिए हैं ताकि 9 मई से आढ़ती किसानों के खातों में राशि ट्रांसफर कर सके। सबसे पहले 23, 24 व 25 अप्रैल को खरीदी गई गेहूं की राशि भी आढ़तियों के खातों में डालने के निर्देश दिए हैं।
हालांकि अभी जिले के आढ़तियों के खातों में 20 व 21 अप्रैल को खरीदी गई गेहूं की ही पेमेंट आई है। भुगतान का कार्य ई-खरीद पोर्टल से ऑनलाइन या चालान द्वारा दोनों माध्यमों से किया जा सकेगा। यह आदेश पत्र क्रमांक खरीद 2020/7175 के माध्यम से जारी किए गया है।

ये है राशि

जिले की मंडियों व परचेजर सेंटरों से विभिन्न खरीद एजेंसियां अभी तक 87 हजार 562 मीट्रिक टन (8 लाख 75 हजार 620 क्विंटल) गेहूं की 1925 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से सरकारी खरीद कर चुकी है। जिनकी कीमत लगभग एक अरब 68 करोड़ 55 लाख 68 हजार 500 रुपये की राशि बनती है। गेहूं की पेमेंट एजेंसियों के माध्यम से आढ़तियों के खातों में आएगी और आढ़तियों के माध्यम से किसानों के बैंक खातों में ट्रांसफर होगी।

खरीद के बावजूद लगभग तीन लाख

खरीद के बावजूद अभी तक जिले की अनाज मंडी व परचेजर सेंटरों पर लगभग तीन लाख बैग गेहूं का उठान नहीं हुआ है। मजदूरों की कमी के कारण समय पर गेहूं का उठान नहीं हो पा रहा है। अनाज मंडी व गोदामों में दो-दो प्वाइंटों पर ही गाड़ियों में गेहूं के बैगों की लोडिंग व अनलोडिंग का कार्य चल रहा हैं। इसके चलते प्रत्येक गोदामों के बाहर गेहूं से भरे 20 से 50 तक ट्रक खड़े हुए हैं। इसके कारण खरीद के बावजूद लगभग तीन लाख बैग गेहूं अभी गोदामों में नहीं पहुंच पाया है। गेहूं की खरीद जिले की 36 अनाज मंडी व परचेजर सेंटरों पर चल रही है।