11 मई तक 75 प्रतिशत तो 17 मई तक पूरे स्टाफ के साथ कर सकते हैं काम

  • अब कर्मियों की संख्या को लेकर भी नई गाइडलाइन जारी, फैक्ट्रियों और उद्योग में दो चरणों में होगा काम, 265 उद्योगों और फैक्ट्रियों में 3500 मजदूर कर रहे काम

सिरसा. सरकार द्वारा आर्थिक गतिविधियों को बढावा देने के उद्ेश्य से तीसरे चरण के लॉकडाउन में औद्योगिक इकाइयों एवं व्यवसायिक प्रतिष्ठानों के संचालन बारे छूट प्रदान की गई है। राज्य सरकार द्वारा लॉकडाउन के दौरान बंद औद्योगिक व व्यवसायिक प्रतिष्ठानों में दोबारा कार्य शुरू करने के लिए सरल पोर्टल के माध्यम से अनुमति प्रदान की जा रही है।
इसमें अब कर्मियों की संख्या को लेकर भी नई गाइडलाइन जारी की है। जिसके तहत लॉकडाउन के पीरियड को दो चरणों में बांटा है। जिसमें पहले सप्ताह के अंदर यानि 4 मई से 11 मई तक 75 प्रतिशत श्रमिकों के साथ काम किया जा सकता है। वहीं 11 मई के बाद 17 मई तक यानि दूसरे वीक में पूरे स्टॉफ को काम पर लगाया जा सकता है यानि 100 प्रतिशत श्रमिकों के साथ उद्योग चलाया जा सकता है। उद्यमियों को कार्य शुरू करने की अनुमति बारे सरल हरियाणा पोर्टल पर ऑनलाइन अप्लाई करना जरूरी है। जिला का कोई भी व्यवसायी या उद्यमी दोबारा से कार्य शुरू करना चाहते हैं, उन्हें सरल हरियाणा डोट जीओवी डोट इन पर आवेदन करना होगा। आवेदन करने के उपरांत संबंधित को तुरंत प्रभाव से ऑटो अपू्रवल प्रदान कर दी जाएगी। उन्होंने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कार्य स्थलों पर कोविड-19 से बचाव के लिए बरती जाने वाली सावधानियों बारे एक मई को नई गाइडलाइन जारी की हैं। सभी व्यवसायियों को अपने प्रतिष्ठानों में इन गाइडलाइन की अनुपालना बारे आवेदन के साथ शपथ पत्र देना होगा।

जिले में अब तक 265 उद्योग और फैक्ट्रियों को मिली परमिशन

जिला में अब तक 265 उद्योग और फैक्ट्रियों को परमिशन मिल चुकी है। इनमें 3500 मजदूर काम कर रहे हैं। जिला उद्योग केंद्र के उप निदेशक गुरप्रताप सिंह ने बताया कि अभी तक कुल 800 के करीब आवेदन आए थे। जिसमें से 265 को मंजूरी मिल चुकी है। 524 के आवेदन दस्तावेज की कमियों के चलते रिजेक्ट हो गए हैं।
कार्य स्थल बारे ये हैं गाइडलाइन :
1.कार्य स्थल पर मॉस्क पहनना अनिवार्य है व मॉस्क आदि की उपलब्धता जरूरी है। 2. कार्यस्थलों पर संबंधित प्रभारी सोशल डिस्टेंसिंग की अनुपालना करवाना सुनिश्चित करेंगे।
3. कार्यस्थलों पर सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए शिफ्टों व लंच के समय अंतराल करना अनिवार्य है।
4. कार्यस्थल पर थ्रमल स्कैनिंग, थ्रेटुल हैंड वॉश और सैनिटाइजर रखना जरूरी। 5. कार्यस्थल के उन सभी जगहों जो व्यक्यिों द्वारा संपर्क में आए हों, जैसे दरवाजे, हैंडल आदि को समय-समय पर सेनेटाइज किया जाना अनिवार्य है।
6. सभी के लिए आरोग्य सेतू एप डाउनलोड करना अनिवार्य है। संबंधित प्रबंधक सुनिश्चित करेगा कि उनके अधीन काम करने वाले कर्मचारी आरोग्य सेतू एप डाउनलोड करेंगे। 7. अधिक संख्या वाली बैठकों से बचा जाए। 8 कार्यस्थल के आसपास के अस्पताल / क्लीनिक, जो सीओवीआईडी-19 रोगियों के इलाज के लिए अधिकृत हैं, उनकी सूची उपलब्ध होनी चाहिए, ताकि कोविड-19 के किसी भी लक्षण से जूझ रहे कर्मचारियों को ऐसी सुविधाओं की जांच के लिए तुरंत भेजा जा सके।