सीएम को पत्र के माध्यम से कोरोना रोकने के दिए सुझाव

चरखी दादरी. बाढ़डा पूर्व विधायक रणबीर सिंह मंदौला द्वारा पत्र के माध्यम से मुख्यमंत्री को कोरोना महामारी को रोकने के लिए सुझाव देते हुए जल्द से जल्द इन पर कदमों को उठाने का आग्रह किया है।
उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना महामारी से आएं आर्थिक संकट में जनता से सहयोग लेना कोई ग़लत नहीं बशर्ते इस का सही उपयोग हो। लेकिन अति महंगाई के इस दौर में छोटे कर्मचारियों का डीए रोकना या किसानों से कुछ अनाज मांगना और विद्यार्थियों से पांच-पांच रुपए की मदद मांगना उन्नत प्रदेश को शोभा नहीं देता।

इस छोटी पूंजी से प्रदेश की अर्थव्यवस्था को कोई मजबूती मिलेगी। इसलिए ऐसा ध्यान हटाकर आप कुछ अन्य उपायों पर विचार कर कहीं ज्यादा राजस्व संग्रह करके प्रदेश की आर्थिक स्थिति को सबल बना सकते हैं। इसमें मंत्रियों का स्वैच्छिक कोष का पैसा दो वर्ष के लिए रोका जाए और सरकार व अधिकारियों की फिजूलखर्ची व सुविधाओं में कटौती की जाएं। इसके अलावा जो प्रोफेसर, लेक्चरर या अन्य अधिकारी जो एक लाख या इससे ज्यादा वेतन/भत्ते पा रहे हैं या पेंशन पा रहे हैं। उन सभी से भी 30 प्रतिशत हिस्सा कोरोना राहत कोष में काटना चाहिए।

दिए गए सुझाव
1. सभी तरह के सरकारी समारोह, उत्सव व अनावश्यक खर्च व खरीदें रोक दी जाए।
2. बड़े-बड़े प्राइवेट अस्पताल, नर्सिंग होम, फार्मा कम्पनिज, ब्रांडेड मेडिसन एजेंसी धारकों बड़े-बड़े प्राइवेट स्कूलों प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों ओर अच्छी आय वाले शिक्षण संस्थाओं से भी सरकार खुलकर चंदा ले।
3. गैस एजेंसियों, पैट्रोल पंपों बड़े-बड़े होटलों व रेस्टोरेंटों व बार मालिकों से भी धन सहयोग प्राप्त करें।
4. अवैध माइनिंग पर रोक लगे माइनिंग कम्पनियों की तरफ बकाया रुपयों की वसूली हो ओर सरकार की लेनदारी की वसूली प्रभाव से की जाए।