विष्णु ने नरसिंह अवतार लेकर दैत्यों के राजा हिरण्यकश्यप का संहार किया : महेशाश्रम

  • विष्णु ने नरसिंह अवतार लेकर दैत्यों के राजा हिरण्यकश्यप का संहार किया : महेशाश्रम

रादौर. श्रीनागेश्वर धाम मंदिर में बुधवार को भगवान नरसिंह जयंती मनाई गई। महंत दंडी स्वामी महेशाश्रम महाराज ने बताया कि भगवान नरसिंह जयंती बैसाख महीने के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को मनायी जाती है। नरसिंह जयंती हिंदुओं का एक बहुत बड़ा त्योहार है। भगवान नरसिंह शक्ति का प्रतीक माने जाते हैं। नरसिंह चतुर्दशी के दिन ही भगवान विष्णु ने नरसिंह अवतार लेकर दैत्यों के राजा हिरण्यकश्यप का वध किया था। उन्होंने बताया कि प्राचीन काल में कश्यप नाम के ऋषि रहते थे। उनकी पत्नी का दिति था। ऋषि कश्यप के दो पुत्र थे एक नाम हरिण्याक्ष और दूसरे का नाम हरिण्यकशिप था। हरिण्याक्ष से पृथ्वी को बचाने के लिए भगवान विष्णु ने वाराह का रूप धारण कर उसकी हत्या कर दी। उसके बाद हिरण्यकश्यप अपने भाई के वध से बहुत क्रुद्ध हुआ। उसने वर्षों तक कठोर तपस्या की। उसकी तपस्या से प्रसन्न होकर ब्रह्मा जी ने उसे अजय होने का आशीर्वाद दिया। इस तरह हिरण्यकश्यप अजेय बनकर अपनी प्रजा पर अत्याचार करने लगा। अब कोई भी हरिण्यकश्यपु को हरा नहीं सकता था। हरिण्यकश्यप की पत्नी कयाधु से उसे प्रहलाद नाम का एक पुत्र पैदा हुआ। प्रहलाद के अंदर राक्षसों वाले गुण नहीं था। वह बहुत संस्कारी था और नारायण का भक्त था। प्रहलाद की आदतें देख हरिण्यकश्यप ने उसमें बदलाव लाने की कोशिश की। लेकिन भक्त प्रहलाद में कोई परिवर्तन नहीं हुआ।
उसके बाद हरिण्यकश्यप ने बालक प्रहलाद को मारने के लिए अपनी बहन होलिका की गोदी में बैठाकर अग्नि में प्रवेश का आदेश दिया, लेकिन इस घटना में प्रहलाद को कुछ नहीं हुआ और होलिका जलकर भस्म हो गई। उसके बाद हरिण्यकश्यप ने प्रहलाद को मारने के लिए योजना बनानी शुरू कर दी। एक दिन हरिण्यकश्यप ने बालक प्रहलाद से कहा कि तुम्हारे भगवान कहां हैं? तो प्रहलाद ने कहा कि वह तो अन्तर्यामी है और सर्वत्र व्याप्त हैं। इस पर हरिण्यकश्यप ने कहा कि वह खम्भे में हैं, तो बालक बोला हां। इस पर वह दैत्य राजा ने खंभे पर मारना प्रारम्भ कर दिया, तभी भगवान नरसिंह खंंभा फाड़ कर बाहर आए और उन्होंने हरिण्यकश्यप का वध कर दिया।