प्रदीप शर्मा, बलदेव शर्मा और राजीव की इफ्तारी से खुलता है जमाल खान, कमाल खान और मनान मियां का रोजा

  • रमजान में एकता की अनूठी मिसाल कायम कर रहे शहर के कई लोग, रोज मुस्लिम परिवारों को पहुंचाते हैं इफ्तारी का सामान

हिसार. कोरोना संकट के बीच शहर के कई लोग रमजान माह में हिंदू-मुस्लिम एकता की अनूठी मिसाल कायम कर रहे हैं। ऐसे ही शख्स हैं हेतराम पार्क के रहने वाले सामाजिक कार्यकर्ता राजीव सरदाना, कैमरी रोड क्षेत्र वासी नहर विभाग से रिटायर्ड बलदेव शर्मा, पीडब्ल्यूडी हिसार के कार्यकारी अभियंता प्रदीप शर्मा, सर्व कर्मचारी संघ के नेता सुरेंद्र मान। चारों रमजान माह में प्रतिदिन कैमरी रोड पर ही रहने वाले जमाल खान, कमाल खान और पड़ाव चौक में रहने वाले मनान मियां, शमसाद समेत 15 से अधिक मुस्लिम परिवारों को रमजान में इफ्तारी का सामान उपलब्ध करा रहे हैं। पिछले दस साल से लगातार मुस्लिम परिवारों को इफ्तारी का सामान उपलब्ध कराया जा रहा है। फ्रूट्स से लेकर खाना तक उपलब्ध कराया जाता है। हिंदू मुस्लिम एकता की अनूठी मिसाल कायम करने वाले चारों सामाजिक कार्यकर्ताओं की हर कोई सराहना कर रहा है। मुस्लिम कल्याण कमेटी हिसार के प्रधान होशियार खान ने बताया कि वाकई में चारों आपसी प्यार और सौहार्द्र की मिसाल हैं। जल्द ही चारों को संस्था द्वारा सम्मानित भी किया जाएगा।
राजीव सरदाना, बलदेव और सुरेंद्र का मानना है कि हिंदू हो या फिर मुस्लिम सभी धर्म सामान हैं। लोगों को किसी भी धर्म में फर्क नहीं समझना चाहिए। पिछले करीब दस साल से वह मुस्लिम भाइयों को इफ्तारी करा रहे हैं। यही नहीं साथ बैठकर भी इफ्तारी करते हैं। त्योहार मिलकर मनाते हैं।

फरिश्ते बनकर पहुंचते हैं
कमाल खान, शमसाद का कहना है कि राजीव, बलदेव, प्रदीप शर्मा सभी उनके लिए किसी फरिश्ते से कम नहीं हैं। हर साल रमजान माह में उन्हें इफ्तारी का सामान उपलब्ध कराया जाता है।
होली और दीवाली पर भी किया जाता है इन्वाइट
मुस्लिम कल्याण समिति हिसार के प्रधान होशियार खान का कहना है कि हिसार के लोग आपसी प्यार व सौहार्द्र की मिसाल हैं। होली व दीवाली पर भी मुस्लिम परिवारों को इनवाइट किया जाता है। जबकि ईद व बकरीद का पर्व भी मिलकर मनाते हैं।