दुकानें खुलने पर जुटी भीड़, पुलिस ने फ्लैग मार्च कर हटाया

सुझाव. पुलिस प्रशासन की लाख कोशिशों के बावजूद भी लॉकडाउन की अवहेलना करने वालों की संख्या में कमी नहीं आ रही। लॉकडाउन तोड़ने के साथ-साथ लोग बाजार में सोशल डिस्टेंसिंग की परवाह नहीं कर रहे। इससे भय का माहौल पैदा हो गया है। प्रशासन की ओर से दुकानें खोलने का समय शाम से हटाकर दो बजे का कर दिया है, लेकिन बेवजह घूमने वालों की भीड़ काबू नहीं आ रही। बुधवार को जैसे ही दुकानें खुली तो बाजार में अचानक भीड़ जुट गई। इसके बाद पुलिस को फ्लैग मार्च निकालकर लोगों को वहां से हटाना पड़ा। दो बजते ही पुलिस ने बाजार बंद करवा दिया। अब पुलिस भीड़ जुटाने वाले लोगों के खिलाफ सख्ती से निपटने का मन बनाया है।

पुलिस करेगी सख्ती : एसएचओ देवेंद्र और चौकी इंचार्ज राजपाल ने बताया कि पुलिस अब सख्ती बढ़ाने जा रही है। जो व्यक्ति बेवजह घूमता पाया गया। उसके वाहन का चालान करने के साथ-साथ उसके खिलाफ मुकदमा भी दर्ज किया जाएगा। उन्होंने कहा कि यदि लोग इसी तरह अपनी जिम्मेदारी से बचते रहे तो पिछले 45 दिन के दौरान जो मेहनत सरकार ने की है। उस पर पानी फिरते देर नहीं लगी। इसलिए पुलिस अब सख्त कार्रवाई करेगी।
उधर, समाजसेवी संगठन भी पुलिस की मदद में आगे आए हैं। समाजसेवी कुलदीप, संजीव शर्मा, ऋषिपाल ने कहा कि पुलिस नाकों पर चुनाव में वोटिंग के दौरान इस्तेमाल होने वाली इंक रखी जानी चाहिए। जो व्यक्ति बेवजह घूमता मिले। उसकी अंगुली पर निशान लगाया जाए और उसे चेतावनी दी जाए। यदि वह व्यक्ति दोबारा बेवजह बाहर नजर आए तो उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज करके उसे हिरासत में लिया जाए। तब जाकर लोग लॉकडाउन तोड़ने से परहेज करेंगे।