कोरोना से जान गंवाने वाले दिल्ली पुलिस के जवान का अंतिम संस्कार, 1 करोड़ रुपये देगी दिल्ली सरकार

  • परिवार का आरोप- कई अस्पतालों में ले जाने के बाद भी नहीं मिल सका था कांस्टेबल अमित को ईलाज
  • एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल ले जाते-जाते ही अमित ने रास्ते में तोड़ दिया था दम

पानीपत. कोरोना वायरस का इलाज न मिलने पर दम तोड़ने वाले दिल्ली पुलिस के जवान अमित राणा का गुरुवार को अंतिम संस्कार किया गया। उनका अंतिम संस्कार दिल्ली के पंजाबी बाग में किया गया। इस दौरान उनके परिजन वहां मौजूद थे। अमित के शव पर पुलिसकर्मियों से लेकर दूसरे लोगों ने भी फूल बरसाकर अंतिम श्रद्धांजलि दी। वहीं दिल्ली सरकार ने अमित के परिजनों को 1 करोड़ रुपये देने की घोषणा की है। यह घोषणा खुद सीएम अरविंद केजरीवाल ने की है।

रात 2 बजे अमित ने उसे बताया था कि सांस लेने में दिक्कत हो रही, इसके बाद ही उसका साथी पुलिसकर्मी उसे अस्पताल के लिए लेकर चल दिया था।

अस्पताल दर अस्पताल जाते रहे लेकिन नहीं मिला इलाज, अॉडियो भी हुआ वायरल
दिल्ली पुलिस में कार्यरत सोनीपत के हुल्लाहेड़ी के जवान अमित राणा की मौत कोरोना की वजह से हुई लेकिन उन्हें समय पर ईलाज नहीं मिल पाया। आरोप हैं कि जवान को उसके दो दोस्त उपचार के लिए कई अस्पतालों में लेकर गए, लेकिन किसी ने भर्ती नहीं किया। आरएमएल अस्पताल में जाते हुए उसकी मौत हो गई।

अमित जी अपनी जान की परवाह ना करते हुए करोना की इस महामारी के समय हम दिल्ली वालों की सेवा करते रहे। वे खुद करोना से संक्रमित हो गए और हमें छोड़ कर चले गए। उनकी शहादत को मैं सभी दिल्लीवासियो की ओर से नमन करता हूँ। उनके परिवार को 1 करोड़ रुपए की सम्मान राशि दी जाएगी। https://t.co/n1eNmZNNCw

— Arvind Kejriwal (@ArvindKejriwal) May 7, 2020

मृतक के दोस्त नवीन ने एक जवान से दिल्ली के अस्पतालों की व्यवस्था के बारे में फोन पर बात की। इसके बाद इनकी बातचीत की ऑडियो रिकॉर्डिंग वायरल हो गई। नवीन ने बताया कि अमित को सोमवार की शाम हल्का बुखार आया था। दवाई लेकर वह कमरे पर सो गया था। रात 2 बजे अमित ने उसे बताया कि सांस लेने में दिक्कत हो रही है। वह उसे सुबह हैदरपुर में बनाए गए हेल्थ सेंटर पर ले गए।

Deeply saddened by the news of the death of Delhi Police Ct. Amit. His sacrifice in fight against COVID-19 will always be remembered
He was a great warrior who brought glory to the frontline police personnel fighting against pandemic.
My deepest condolences to bereaved family. https://t.co/pGzxSW945t

— LG Delhi (@LtGovDelhi) May 7, 2020

डॉक्टर से बात की तो जवाब मिला कि यहां महज टेस्टिंग की ही व्यवस्था है। उन्होंने डॉक्टर को कहा टेस्ट की रिपोर्ट आती रहेगी, सबसे पहले इलाज जरूरी है। लेकिन डॉक्टर ने उनकी बात नहीं सुनी इसके बाद वह अमित को लेकर अंबेडकर अस्पताल में चले गए। वहां पर भी टेस्टिंग करने की बात कही गई। जब अशोक विहार सेंटर पर पहुंचे, तो एक दिन में जितने सैंपल लिए जाने थे, वह पूरे हो चुके थे। अतंत में वह उसे आरएलएम अस्पताल में ले जाने के ले चल पड़े। अमित ने अस्पताल जाते हुए दम तोड़ दिया।

एक चार साल का बेटा
अमित का एक 4 साल का बेटा है। अमित की मां की मौत हो चुकी है । घर पर एक छोटा भाई सुमित, अमित की पत्नी व पिता है। इस पूरे घटनाक्रम पर गांव की ग्राम पंचायत ने भी रोष जताया है।